Sunday, May 26, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

योगी सरकार ने विवेक तिवारी की पत्नी को बनाया लखनऊ नगर निगम  में विशेष कार्याधिकारी , 13वीं पर सौंपा नियुक्ति पत्र

अंग्वाल संवाददाता
योगी सरकार ने विवेक तिवारी की पत्नी को बनाया लखनऊ नगर निगम  में विशेष कार्याधिकारी , 13वीं पर सौंपा नियुक्ति पत्र

लखनऊ । यूपी के विवादित विवेक तिवारी हत्याकांड में पीड़ित परिवार की मांग पर योगी सरकार ने आखिरकार पीड़ित परिवार से किया वादा निभा दिया है। डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने लखनऊ में पुलिस की गोली से मारे गए विवेक तिवारी की विधवा कल्पना तिवारी को लखनऊ नगर निगम में विशेष कार्याधिकारी के पद पर नियुक्त किया। इससे संबंधित एक नियुक्ति पत्र उन्हें गुरुवार को सौंप दिया गया । 

बता दें कि गुरुवार को एप्पल कंपनी के कर्मचारी रहे विवेक तिवारी की तेरवहीं का आयोजन किया गया था। इस दौरान राज्य के डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा सहित कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन तथा महापौर संयुक्ता भाटिया समेत कई अधिकारी भी शामिल हुए । इस दौरान नगर आयुक्त डॉ. इंद्रमणि त्रिपाठी ने बताया कि वे कल्पना तिवारी को  निगम में विशेष कार्याधिकारी के पद पर नियुक्त करने संबंधी नियुक्ति पत्र देने पहुंचे। 


इस दौरान कल्पना तिवारी ने आरोपी सिपाही के समर्थन में आवाज उठाने वाले सिपाहियों से कहा कि वे मानवता को शर्मसार न करें. अपने दिल पर हाथ रख कर बोले कि किसके साथ अन्याय हुआ है। 

विदित हो कि गत 28 सितंबर को पुलिसकर्मी ने विवेक तिवारी को उस समय गोली मार दी थी जब वह ऑफिस से अपनी सहकर्मी को घर छोड़ने जा रहे थे। इस घटना के बाद पीड़ित परिजनों ने सरकार से आर्थिक मुआवजे और सरकारी नौकरी की मांग की थी, जिसके बाद सरकार ने उनकी मांगों पर अमल किया। बता दें कि विवेक तिवारी हत्याकांड में अब तक दो एफआईआर दर्ज हो चुकी है,  इसमें पहली एफआईआर मामले की एकमात्र चश्मदीद सना की तरफ से दर्ज हुई थी। 

Todays Beets: