Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

योगी सरकार ने विवेक तिवारी की पत्नी को बनाया लखनऊ नगर निगम  में विशेष कार्याधिकारी , 13वीं पर सौंपा नियुक्ति पत्र

अंग्वाल संवाददाता
योगी सरकार ने विवेक तिवारी की पत्नी को बनाया लखनऊ नगर निगम  में विशेष कार्याधिकारी , 13वीं पर सौंपा नियुक्ति पत्र

लखनऊ । यूपी के विवादित विवेक तिवारी हत्याकांड में पीड़ित परिवार की मांग पर योगी सरकार ने आखिरकार पीड़ित परिवार से किया वादा निभा दिया है। डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने लखनऊ में पुलिस की गोली से मारे गए विवेक तिवारी की विधवा कल्पना तिवारी को लखनऊ नगर निगम में विशेष कार्याधिकारी के पद पर नियुक्त किया। इससे संबंधित एक नियुक्ति पत्र उन्हें गुरुवार को सौंप दिया गया । 

बता दें कि गुरुवार को एप्पल कंपनी के कर्मचारी रहे विवेक तिवारी की तेरवहीं का आयोजन किया गया था। इस दौरान राज्य के डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा सहित कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन तथा महापौर संयुक्ता भाटिया समेत कई अधिकारी भी शामिल हुए । इस दौरान नगर आयुक्त डॉ. इंद्रमणि त्रिपाठी ने बताया कि वे कल्पना तिवारी को  निगम में विशेष कार्याधिकारी के पद पर नियुक्त करने संबंधी नियुक्ति पत्र देने पहुंचे। 


इस दौरान कल्पना तिवारी ने आरोपी सिपाही के समर्थन में आवाज उठाने वाले सिपाहियों से कहा कि वे मानवता को शर्मसार न करें. अपने दिल पर हाथ रख कर बोले कि किसके साथ अन्याय हुआ है। 

विदित हो कि गत 28 सितंबर को पुलिसकर्मी ने विवेक तिवारी को उस समय गोली मार दी थी जब वह ऑफिस से अपनी सहकर्मी को घर छोड़ने जा रहे थे। इस घटना के बाद पीड़ित परिजनों ने सरकार से आर्थिक मुआवजे और सरकारी नौकरी की मांग की थी, जिसके बाद सरकार ने उनकी मांगों पर अमल किया। बता दें कि विवेक तिवारी हत्याकांड में अब तक दो एफआईआर दर्ज हो चुकी है,  इसमें पहली एफआईआर मामले की एकमात्र चश्मदीद सना की तरफ से दर्ज हुई थी। 

Todays Beets: