Friday, July 20, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

योगी सरकार की रिपोर्ट, गोरखपुर अस्पताल में ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होने से नहीं हुई बच्चों की मौत  

अंग्वाल संवाददाता
योगी सरकार की रिपोर्ट, गोरखपुर अस्पताल में ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होने से नहीं हुई बच्चों की मौत  

लखनऊ। गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 10 अगस्त की रात को करीब 60 बच्चों की मौत की सरकारी जांच रिपोर्ट आ गई है। जांच रिपोर्ट के मुताबिक बच्चों की मौत का कारण ऑक्सीजन सप्लाई में बाधा नहीं थी, क्योंकि वैकल्पिक उपाय मौजूद थे। हालांकि डॉक्टर और ऑक्सीजन सप्लायर दोनों ही ऑक्सीजन खत्म होने के लिए दोषी करार दिए गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों को पता था कि ऑक्सीजन खत्म होने से बच्चों की मौतें हो सकती हैं। गोरखपुर के अस्पताल में बच्चों की मौत पर यूपी सरकार की जांच रिपोर्ट का सार यही है।

यह भी पढ़े- पंजाब के जालंधर में परिवार को जलाया जिंदा, दो बच्चों समेत 3 की मौत 


उत्तर प्रदेश पुलिस ने 4 डॉक्टरों और ऑक्सीजन सप्लायर कंपनी पुष्पा सेल्स के दो अधिकारियों पर आईपीसी की धारा 308 के तहत कार्रवाई की है। आपको बता दें कि यह धारा जानबूझकर की गई लापरवाही के कारण मौत से जुड़ी हुई है।हालांकि पुलिस ने धारा 304 के तहत कार्रवाई नहीं की है। धारा 304 हत्या के मामले से जुड़ी हुई है। 

यह भी पढ़े- राजधानी में सर्जिकल ब्लेड से डॉक्टर का गला काटकर हत्या, साथी पर है मर्डर का शक 

Todays Beets: