Tuesday, September 19, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

योगी सरकार की रिपोर्ट, गोरखपुर अस्पताल में ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होने से नहीं हुई बच्चों की मौत  

अंग्वाल संवाददाता
योगी सरकार की रिपोर्ट, गोरखपुर अस्पताल में ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होने से नहीं हुई बच्चों की मौत  

लखनऊ। गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 10 अगस्त की रात को करीब 60 बच्चों की मौत की सरकारी जांच रिपोर्ट आ गई है। जांच रिपोर्ट के मुताबिक बच्चों की मौत का कारण ऑक्सीजन सप्लाई में बाधा नहीं थी, क्योंकि वैकल्पिक उपाय मौजूद थे। हालांकि डॉक्टर और ऑक्सीजन सप्लायर दोनों ही ऑक्सीजन खत्म होने के लिए दोषी करार दिए गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों को पता था कि ऑक्सीजन खत्म होने से बच्चों की मौतें हो सकती हैं। गोरखपुर के अस्पताल में बच्चों की मौत पर यूपी सरकार की जांच रिपोर्ट का सार यही है।

यह भी पढ़े- पंजाब के जालंधर में परिवार को जलाया जिंदा, दो बच्चों समेत 3 की मौत 


उत्तर प्रदेश पुलिस ने 4 डॉक्टरों और ऑक्सीजन सप्लायर कंपनी पुष्पा सेल्स के दो अधिकारियों पर आईपीसी की धारा 308 के तहत कार्रवाई की है। आपको बता दें कि यह धारा जानबूझकर की गई लापरवाही के कारण मौत से जुड़ी हुई है।हालांकि पुलिस ने धारा 304 के तहत कार्रवाई नहीं की है। धारा 304 हत्या के मामले से जुड़ी हुई है। 

यह भी पढ़े- राजधानी में सर्जिकल ब्लेड से डॉक्टर का गला काटकर हत्या, साथी पर है मर्डर का शक 

Todays Beets: