Tuesday, November 21, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

योगी सरकार की रिपोर्ट, गोरखपुर अस्पताल में ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होने से नहीं हुई बच्चों की मौत  

अंग्वाल संवाददाता
योगी सरकार की रिपोर्ट, गोरखपुर अस्पताल में ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होने से नहीं हुई बच्चों की मौत  

लखनऊ। गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 10 अगस्त की रात को करीब 60 बच्चों की मौत की सरकारी जांच रिपोर्ट आ गई है। जांच रिपोर्ट के मुताबिक बच्चों की मौत का कारण ऑक्सीजन सप्लाई में बाधा नहीं थी, क्योंकि वैकल्पिक उपाय मौजूद थे। हालांकि डॉक्टर और ऑक्सीजन सप्लायर दोनों ही ऑक्सीजन खत्म होने के लिए दोषी करार दिए गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों को पता था कि ऑक्सीजन खत्म होने से बच्चों की मौतें हो सकती हैं। गोरखपुर के अस्पताल में बच्चों की मौत पर यूपी सरकार की जांच रिपोर्ट का सार यही है।

यह भी पढ़े- पंजाब के जालंधर में परिवार को जलाया जिंदा, दो बच्चों समेत 3 की मौत 


उत्तर प्रदेश पुलिस ने 4 डॉक्टरों और ऑक्सीजन सप्लायर कंपनी पुष्पा सेल्स के दो अधिकारियों पर आईपीसी की धारा 308 के तहत कार्रवाई की है। आपको बता दें कि यह धारा जानबूझकर की गई लापरवाही के कारण मौत से जुड़ी हुई है।हालांकि पुलिस ने धारा 304 के तहत कार्रवाई नहीं की है। धारा 304 हत्या के मामले से जुड़ी हुई है। 

यह भी पढ़े- राजधानी में सर्जिकल ब्लेड से डॉक्टर का गला काटकर हत्या, साथी पर है मर्डर का शक 

Todays Beets: