Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

मंदिर निर्माण न होने पर आत्मदाह की चेतावनी देने वाले ‘संत’ हुए गिरफ्तार, भेजे गए 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मंदिर निर्माण न होने पर आत्मदाह की चेतावनी देने वाले ‘संत’ हुए गिरफ्तार, भेजे गए 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में

लखनऊ। अयोध्या में विवादित राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए अनशन करने के बाद आत्मदाह करने की चेतावनी देने वाले संत परमहंस दास को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद उन्हें सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। आपको बता दें कि संत परमहंस दास ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर अयोध्या में 5 दिसंबर से मंदिर का निर्माण शुरू नहीं हुआ तो 6 दिसंबर को वे आत्मदाह कर लेंगे। 

गौरतलब है कि पिछले दिनों उन्होंने अयोध्या में आत्मदाह के लिए अपनी चिता भी तैयार कर ली थी और उसका पूजन भी कर लिया था। फिलहाल पुलिस ने उन्हें आत्महत्या करने की कोशिश, माहौल खराब करने और कानून व्यवस्था को खतरा पहुंचाने के आरोप में गिरफ्तार किया है। मंगलवार को गिरफ्तार करने के बाद संत परमहंस दास को सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।


ये भी पढ़ें - LIVE - बुलंदशहर कांड की जांच SIT करेगी , पुलिस की किसी को फंसाने की मंशा नहीं - ADG यूपी पुलिस

यहां बता दें कि संत परमहंस दास ने अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए आमरण अनशन भी शुरू किया था लेकिन बाद में पुलिस ने उन्हें जबरन उठाकर पीजीआई में भर्ती करा दिया था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद अस्पताल पहुंचकर उनका अनशन तुड़वाया था। बाद में संत परमहंस दास ने कहा कि सीएम ने उनसे मंदिर निर्माण और पीएम से मिलवाने का वादा किया था लेकिन उन्होंने कुछ नहीं किया। गौर करने वाली बात है कि साधु समाज के द्वारा सरकार पर शीतकालीन सत्र में मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने के लिए दवाब बना रहे हैं लेकिन भाजपा अध्यक्ष ने सत्र के दौरान मंदिर निर्माण के लिए किसी भी तरह का बिल लाने से इंकार कर दिया है। 

Todays Beets: