Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

मंदिर निर्माण न होने पर आत्मदाह की चेतावनी देने वाले ‘संत’ हुए गिरफ्तार, भेजे गए 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मंदिर निर्माण न होने पर आत्मदाह की चेतावनी देने वाले ‘संत’ हुए गिरफ्तार, भेजे गए 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में

लखनऊ। अयोध्या में विवादित राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए अनशन करने के बाद आत्मदाह करने की चेतावनी देने वाले संत परमहंस दास को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद उन्हें सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। आपको बता दें कि संत परमहंस दास ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर अयोध्या में 5 दिसंबर से मंदिर का निर्माण शुरू नहीं हुआ तो 6 दिसंबर को वे आत्मदाह कर लेंगे। 

गौरतलब है कि पिछले दिनों उन्होंने अयोध्या में आत्मदाह के लिए अपनी चिता भी तैयार कर ली थी और उसका पूजन भी कर लिया था। फिलहाल पुलिस ने उन्हें आत्महत्या करने की कोशिश, माहौल खराब करने और कानून व्यवस्था को खतरा पहुंचाने के आरोप में गिरफ्तार किया है। मंगलवार को गिरफ्तार करने के बाद संत परमहंस दास को सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।


ये भी पढ़ें - LIVE - बुलंदशहर कांड की जांच SIT करेगी , पुलिस की किसी को फंसाने की मंशा नहीं - ADG यूपी पुलिस

यहां बता दें कि संत परमहंस दास ने अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए आमरण अनशन भी शुरू किया था लेकिन बाद में पुलिस ने उन्हें जबरन उठाकर पीजीआई में भर्ती करा दिया था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद अस्पताल पहुंचकर उनका अनशन तुड़वाया था। बाद में संत परमहंस दास ने कहा कि सीएम ने उनसे मंदिर निर्माण और पीएम से मिलवाने का वादा किया था लेकिन उन्होंने कुछ नहीं किया। गौर करने वाली बात है कि साधु समाज के द्वारा सरकार पर शीतकालीन सत्र में मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने के लिए दवाब बना रहे हैं लेकिन भाजपा अध्यक्ष ने सत्र के दौरान मंदिर निर्माण के लिए किसी भी तरह का बिल लाने से इंकार कर दिया है। 

Todays Beets: