Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

शिक्षक दिवस पर लखनऊ में शिक्षक प्रेरकों पर जमकर लाठीचार्ज, कई घायल, तीन साल से वेतन नहीं मिलने पर किया प्रदर्शन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शिक्षक दिवस पर लखनऊ में शिक्षक प्रेरकों पर जमकर लाठीचार्ज, कई घायल, तीन साल से वेतन नहीं मिलने पर किया प्रदर्शन

लखनऊ । जहां एक ओर मंगलवार को शिक्षक दिवस के मौके पर लोग अपने गुरुजनों को याद कर रहे थे, वहीं लखनऊ में अपने तीन साल के वेतन की मांग और खुद को नियमित करने की मांग को लेकर विधानसभा के पास पहुंचे शिक्षक प्रेरकों पर पुलिसवालों ने जमकर लाठियां भांजी। ये लोग विधानसभा के बाहर अपनी मांग उठाते हुए प्रदर्शन कर रहे थे, जिनके वहां से नहीं हटने पर पुलिस वालों ने इन्हें दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। इस लाठीचार्ज में जहां कई शिक्षक प्रेरक मामूली रूप से घायल हो गए, वहीं कई को गंभीर चोटें भी आई हैं। 

बता दें कि उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों से शिक्षक प्रेरक संघ के सदस्य लखनऊ विधानसभा का घेराव करने पहुंचे थे। ये लोग पिछले तीन साल से अपने वेतन न दिए जाने से नाराज थे और वेतन की मांग कर रहे थे। इसके साथ ही इन लोगों की मांग थी कि अब इन्हें नियमित किया जाए। सौकड़ों की संख्या में मौजूद इस लोगों ने प्रदर्शन करना शुरू किया तो पुलिस कर्मियों ने इन लोगों को दौड़ा दौड़ा कर पीटा। इस दौरान पुलिस कर्मियों ने महिला-पुरुष नहीं देखा और बस लाठियां भांजना शुरू कर दिया। इसमें जहां दो महिला शिक्षक प्रेरकों का सिर फट गया, वहीं कई को चोटें आई हैं। 

बता दें कि शिक्षक प्रेरक वे लोग होते हैं जो स्कूल में बच्चों को लाने-ले जाने का काम करते हैं। इन लोगों का कहना है कि पिछले तीन सालों से उनका वेतन नहीं दिया गया है, जिसके विरोध में आज वे प्रदर्शन करने लखनऊ आए थे। 

Todays Beets: