Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

हिमाचल के सरकारी स्कूलों में अब ये विषय नहीं पढ़ाए जाएंगे, छात्रों में मचा हड़कंप

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हिमाचल के सरकारी स्कूलों में अब ये विषय नहीं पढ़ाए जाएंगे, छात्रों में मचा हड़कंप

शिमला। हिमाचल प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों के लिए काफी महत्वपूर्ण खबर है। अब 9वंी और 10वीं कक्षा के छात्रों को वोकेशनल एजूकेशन के तौर पर हेल्थ केयर, मीडिया एवं इंटरटेनमेंट विषय नहीं पढ़ाए जाएंगे। इसके बदले छात्रों को ड्राइंग, आईटी और अन्य विषय की शिक्षा दी जाएगी। फिलहाल वोकेशनल विषयों के हटाए जाने से स्कूलों में वोकेशनल विषय बदलने से स्कूलों के स्टाफ सदस्यों समेत विद्यार्थियों में भी हड़कंप मच गया है।

गौरतलब है कि वोकेशनल परियोजना निदेशक की ओर से विषयों के अचानक बदलाव से छात्रों को परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। राज्य परियोजना निदेशक ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि स्कूलों में बच्चों को पढ़ाए जा रहे हेल्थ केयर, मीडिया एवं इंटरटेनमेंट के बजाय अन्य विषय पढ़ाए जाएं। 

ये भी पढ़ें - मध्यप्रदेश की जुवेनाइल कोर्ट ने दुष्कर्म के मामले में कायम की मिसाल, महज 7 घंटे के अंदर सुनाई सजा


यहां बता दें कि इसके लिए सभी प्रधानाचार्यों को पत्र भेजकर सूचित कर दिया गया है। शिक्षकों का मानना है कि स्कूल में शैक्षणिक सत्र 2018-19 का आधे से अधिक समय बीत जाने के बाद इसमें बदलाव करने से छात्रों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।  बताया जा रहा है कि प्रदेश सरकार ने छात्रों की परेशानियों को देखते हुए केंद्र सरकार को पत्र भी लिखा था लेकिन वहां से इसे मना कर दिया गया। 

 

Todays Beets: