Monday, June 17, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

व्हाट्सएप पर ‘कुछ भी’ मैसेज करने की आदत वाले सावधान हो जाएं, पुलिस को दी जाएगी जानकारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
व्हाट्सएप पर ‘कुछ भी’ मैसेज करने की आदत वाले सावधान हो जाएं, पुलिस को दी जाएगी जानकारी

नई दिल्ली। अगर आप भी व्हाट्सएप पर चैट करने के आदी हैं तो संभल जाएं। व्हाट्सएप और टेलिग्राम चैट कंपनी अपने यूजर्स के चैट की जानकारी के लिए एंड टू एंड इन्स्क्रिप्शन का उपयोग करती है लेकिन अब वह इसकी जानकारी पुलिस को देने वाली है। हालांकि फिलहाल आपको घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह मामला आॅस्ट्रेलिया में होने वाला है। आपको बता दें कि भारत में भी व्हाट्सएप के जरिए फैलाए गए कई मैसेज की वजह से दंगे और हत्याएं हुईं। सरकार ने व्हाट्सएप से इसकी जानकारी मांगी थी लेकिन उसने अभी इससे मना कर दिया है। 

गौर करने वाली बात है कि ऑस्ट्रेलिया में भी अभी यह नियम लागू नहीं हुआ है। एक ऐसा प्रस्ताव दिया गया है जो कि अभी प्रोसेस में है। यदि इस प्रस्ताव पर सहमति बनती है तो सरकार सोशल मीडिया कंपनियों पर मैसेज एक्सेस करने एंड टू एंड इनक्रिप्शन हटाने का दबाव बना सकती है। वहीं कई लोगों ने इस बिल का आलोचना की है और कहा है कि यह लोगों की निजता पर सीधा हमला है।


ये भी पढ़ें - JIO उपभोक्ता हैं तो आपके पास है इतराने का मौका , एयरटेल को दी जोरदार पटखनी

यहां गौर करने वाली बात है कि भारत के कानून मंत्रालय ने भी सोशल मीडिया के जरिए फैलाई गई अफवाह के बाद कई जगहों पर दंगे भड़के और माॅब लिंचिंग की घटनाएं हुईं। इसके बाद मंत्रालय ने व्हाट्सएप से इसकी जानकारी मांगी थी लेकिन कंपनी से ऐसा करने से मना कर दिया था लेकिन भविष्य में ऐसा हो सकता है कि ऑस्ट्रेलियाई पुलिस जैसा ही भारतीय पुलिस को भी व्हाट्सएप मैसेज पढ़ने की इजाजत मिल जाए।

Todays Beets: