Tuesday, September 25, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

जरा सावधान! चीनी मोबाइल कंपनियां कर रही है आपका डाटा चोरी 

अंग्वाल संवाददाता
जरा सावधान! चीनी मोबाइल कंपनियां कर रही है आपका डाटा चोरी 

नई दिल्ली। चीनी कंपनियों द्वारा मोबाइल डाटा चोरी करने का मामला सामने आ रहा है। चीन के डाटा चोरी करने की रिपोर्ट मिलने के बाद भारत सरकार ने सुरक्षा के लिए सख्त कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। केंद्र ग्राहकों का डाटा चुराने और उसके अनुचित इस्तेमाल के संदेह में 21 मोबाइल कंपनियों को सरकार की तरफ से नोटिस जारी किए गए हैं। इसमें vivo, oppo, ximoai, gionee समेत ज्यादातर चीनी कंपनियां शामिल हैं। सूचना प्रोद्योगिकी मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया, इन कंपनियों से सरकार ने 28 अगस्त तक जवाब दाखिल करने के लिए कहा है। कंपनियों से नोटिस के जरिए ग्राहकों के डाटा को सुरक्षित रखने के लिए अपनाई गई प्रक्रियाओं के बारे में पूछा गया है। साथ ही यह भी पूछा गया है कि क्या डाटा को देश से बाहर भेजा जाता है या अन्य व्यावसायिक कार्यों में इस्तेमाल तो नहीं हो रहा है। 

यह भी पढ़े- सरकार ने लॉन्च किया GST finder app, अब नहीं खा सकेंगे धोखा

अधिकारी के अनुसार, घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ग्राहकों के डाटा लीक होने की रिपोर्ट मिली है। इसी के चलते सरकार ने सबसे पहले मोबाइल फोन में लॉड सॉफ्टवेयर और एप की जांच कराने का फैसला किया है। कंपनियों के जवाब के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। 


यह भी पढ़े- खरीदें Renault की यह कार और पाए 2 लाख रुपये तक का बंपर डिस्काउंट

सरकार लगाएगी भारी जुर्माना 

सरकार को संदेह है कि कंपनियां ग्राहकों की कांटैक्ट लिस्ट और अन्य प्रकार की निजी सूचनाएं चुरा रही हैं। अगर कंपनियां दोषी पाएगी तो आईटी एक्ट की धारा 43 ए के तहत उन पर भारी जुर्माना लगेगा।  

Todays Beets: