Wednesday, September 20, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

सफर के दौरान महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करेगी ‘राइडनेस्ट’ एप

अंग्वाल संवाददाता
 सफर के दौरान महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करेगी ‘राइडनेस्ट’ एप

नई दिल्ली। महिलाओं के सफर को सुलभ और सुरक्षित बनाने के लिए एक नया एप लॉन्च किया गया है। दिल्ली टेक्नोजिकल यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र अनुज धवन ने इस एप को बनाया है। इस एप का नाम राइडनेस्ट रखा गया है। अनुज का कहना है कि यह एप महिलाओं को एक समूह में रहने की ताकत प्रदान करती है, चाहे वे यात्रा के दौरान हो, फिल्म देखने, शॉपिंग करने या किसी प्रोग्राम में शामिल होना हो। इस प्रकार महिलाएं आपस में जुड़े रहकर अपनी सुरक्षा सुनिश्चित कर सकती है।

यह भी पढ़े- Facebook live में जल्द ही एड होंगे कुछ नए फीचर, पढ़े पूरी रिपोर्ट...

 


 

इसी के साथ अनुज ने बताया कि यह कोई राइड-शेयरिंग एप नहीं है, बल्कि यह जान-पहचान के लोगों के बीच जानकारी अपलब्ध कराने की सुविधा प्रदान करती है। उन्होंने बताया कि उन्हें यह एप बनाने की प्रेरणा वर्ष 2012 में हुए निर्भया कांड के से मिली , जिसमें महिलाओं के रात में सफर करने के दौरान सुरक्षा को लेकर बेहद भयानक मामला सामने आया था।

यह भी पढ़े- Whatsapp में आया नया कलरफुल टेक्स्ट फीचर, यूजर्स का फोटो और वीडियो शेयर करना होगा और भी मजेदार

बता दें कि यह गूगल प्ले स्टोर और एप्पल स्टोर पर फ्री में उपलब्ध इस एप में अमरजेंसी के लिए एसओएस बटन है, जिसे दो लोगों को एक मैसेज के जरिए सूचित किया जा सकता है। इससे पीड़िता अपने घर पर आसानी से परेशानी के दौरान मैसेज पहुंचा सकती है।    

Todays Beets: