Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

अब कार बता सकेगी कहीं आपको हार्ट अटैक तो नहीं आ रहा... 

अंग्वाल संवाददाता
अब कार बता सकेगी कहीं आपको हार्ट अटैक तो नहीं आ रहा... 

हार्ट अटैक के दौरान कुछ ही मिनटों में इंसान मर जाता और अगर सही समय पर इलाज़ मिल जाए तो जीवन बच जाता हैं और अगर यही हार्ट अटैक ड्राइविंग करते वक्त आ जाए तो खतरा और बढ़ जाता है। कैसे होगा अगर ड्राइविंग करते वक्त आपकी कार आपको पहले ही संकेत देदे कि आपको हार्ट अटैक तो नहीं आ रहा ? जी हां दोस्तो कुछ ऐसा ही युएस कि ‘मिशिगन यूनिवर्सिटी’ के शोधकर्ता और जापान की ऑटोमेकर कंपनी टोयोटा दोनों मिलकर इस शोध पर कार्य कर रहे हैं।

यह भी पढ़े - टाटा जल्द ही बाजार में उतारेगी 1 लीटर में 100 किलोमीटर चलने वाली कार, जानें कार की खासियत के ...

कार मे लगा सिस्टम बताएगा


बता दें कि ये सिस्टम एल्गोरिदम, पोटेंशियल सॅाल्युशन और हार्डवेयर ऑप्शन के द्वारा यह पता लगा लेगा कि ड्राइवर कि शारीरिक स्थिति कैसी है। शोधकर्तों के अनुसार, यह सिस्टम ईसीजी मेजरमेंट से फिजिओलॅाजी और बाकी मेडिकल मेजरमेंट से कार ड्राइव कर रहे व्यक्ति के दिल कि स्थिति के बारे में बताएगा।एक हाई-क्वालिटी डिवाइस होगी जो ड्राइवर के सीने से चिपकी होगी।

ड्राइवर की ईसीजी काउंटिग इस डिवाइस में अपलोड होगी , जो ड्राइवर के दिल को मॅानिटर करेगी। शोधकर्ताओं ने  बताया कि 2020 तक हमें इस शोध के नतीजें मिलना शुरू हो जाएंगे। आमतौर पर हार्ट अटैक कि घटना ज्यादा तर 65 साल से ऊपर के लोगों को होती है।

यह भी पढ़े -  अगर आप चाहते हैं कि आपके पर्सनल चैट कोई न पढ़े, ऐसे करें लाॅक

Todays Beets: