Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

वैज्ञानिकों ने की नई अल्गोरिद्म विकसित, फेसबुक और ट्विटर के फर्जी यूजर्स का पता लगाना होगा आसान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वैज्ञानिकों ने की नई अल्गोरिद्म विकसित, फेसबुक और ट्विटर के फर्जी यूजर्स का पता लगाना होगा आसान

नई दिल्ली। इन दिनों सोशल मीडिया साइट फेसबुक के डाटा लीक होने की खबर के बाद वैज्ञानिकों ने इसे ज्यादा सुरक्षित बनाने के लिए गलत और फेक यूजर्स की पहचान करने के लिए एक अलग किस्म का अल्गोरिथम विकसित किया है जिससे फेसबुक और ट्विटर पर फर्जी यूजर का पता आसानी से लगा सकते हैं। वैज्ञानिकों ने बताया कि ऐसा देखा गया है कि फर्जी यूजर ज्यादातर अपने दोस्तों को अजीबोगरीब लिंक भेजते हैं। 

गौरतलब है कि इजरायल में हुए शोध में इस बात का खुलासा हुआ कि हाल के दिनों में फेसबुक पर डाटा का सुरक्षित न रहना वैज्ञानिकों की चिंताएं बढ़ा रहा है। इस्राइल की बेन-गुरियोन यूनिवर्सिटी के प्रमुख शोधकर्ता दीमा कगान ने कहा, ‘हाल के दिनों में यूजर की निजता को सुरक्षित रखने में नाकामयाबी की चिंताजनक खबरें और चुनावों को प्रभावित करने के लिए रूस द्वारा सोशल मीडिया के लमन~नस"; सउद्देश्य  इस्तेमाल की खबरों के बाद फेक यूजरों को हटाना बहुत जरूरी हो गया है।


ये भी पढ़ें - रिलायंस जियो टेलीकाॅम कंपनियों को दे सकती है एक और झटका, बाजार में लाएगी सिम वाला लैपटाॅप

कगान ने कहा, ‘हमने हमारे अल्गोरिद्म की जांच 10 अलग - अलग सोशल नेटवर्कों पर मौजूद नकली और वास्तविक डाटा संग्रहों पर की। इसने दोनों पर ही अच्छे से काम किया।’ यह अध्ययन सोशल नेटवर्क एनालिसिस एंड माइनिंग पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। 

Todays Beets: