Sunday, September 23, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

अब स्मार्टफोन की बैट्री चार्ज करना होगा आसान, वैज्ञानिकों का दावा शरीर की बिजली से होगी चार्ज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब स्मार्टफोन की बैट्री चार्ज करना होगा आसान, वैज्ञानिकों का दावा शरीर की बिजली से होगी चार्ज

नई दिल्ली। आज स्मार्टफोन हर युवा के हाथ में है लेकिन उसकी बैट्री को लेकर हमेशा से परेशानी रही है। अब इंसान स्मार्टफोन के साथ चार्जर या पावर बैंक हर जगह लेकर नहीं जा सकता है। ऐसे में वैज्ञानिकों ने स्मार्टफोन की बैट्री को चार्ज करने का एक अनोखा तरीका निकाला है। वैज्ञानिकों ने ऐसा यंत्र विकसित किया है जो शरीर की मदद से ही बिजली पैदा कर सकता है।

ट्राइबोइलेक्ट्रिक तकनीक

गौरतलब है कि वैज्ञानिकों ने एक ऐसा टैब तैयार किया है जो शरीर की मामूली हरकतों से बिजली पैदा करने में सक्षम है। अमेरिका की बफलो यूनिवर्सिटी के एक वैज्ञानिक ने बताया कि हमारा शरीर बड़ी मात्रा में ऊर्जा पैदा कर सकता है ऐसे मंे हमने यह विचार किया कि इस ऊर्जा का सही इस्तेमाल किया जाए। शोधकर्ताओं ने इसके लिए ‘ट्राइबोइलेक्ट्रिक’ तकनीक का इस्तेमाल किया। इस तकनीक में दो पदार्थों को एक दूसरे के संपर्क में लाकर ऊर्जा पैदा की जाती है। 


48 एलईडी बल्ब जलाने की क्षमता

यहां बता दें कि वैज्ञानिकों द्वारा तैयार किए गए इस टैब में सोने और ‘पीडीएमएस’ का इस्तेमाल किया गया है। इस टैब को जब शरीर के किसी भी हिस्से से जोड़ा जाता है तो तो उसकी हरकत से इसमें मौजूद दोनों पदार्थ संपर्क में आते हैं और ऊर्जा बनती है। जैसे कि कोई उंगली उठाता है, या हाथ घुमाता है या फिर पैर चलाता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस उपकरण की मदद से करीब 124 वोल्ट का करंट पैदा किया जा सकता है और इतनी ऊर्जा लाल रंग की करीब 48 एलईडी को एक साथ जला सकती है। अभी इस तकनीक के जरिए मोबाइल को तुरंत चार्ज नहीं किया जा सकता है शोधकर्ता इस ऊर्जा को जमा कैसे किया जाए इस पर भी विचार कर रहे हैं। 

Todays Beets: