Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

अब स्मार्टफोन की बैट्री चार्ज करना होगा आसान, वैज्ञानिकों का दावा शरीर की बिजली से होगी चार्ज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब स्मार्टफोन की बैट्री चार्ज करना होगा आसान, वैज्ञानिकों का दावा शरीर की बिजली से होगी चार्ज

नई दिल्ली। आज स्मार्टफोन हर युवा के हाथ में है लेकिन उसकी बैट्री को लेकर हमेशा से परेशानी रही है। अब इंसान स्मार्टफोन के साथ चार्जर या पावर बैंक हर जगह लेकर नहीं जा सकता है। ऐसे में वैज्ञानिकों ने स्मार्टफोन की बैट्री को चार्ज करने का एक अनोखा तरीका निकाला है। वैज्ञानिकों ने ऐसा यंत्र विकसित किया है जो शरीर की मदद से ही बिजली पैदा कर सकता है।

ट्राइबोइलेक्ट्रिक तकनीक

गौरतलब है कि वैज्ञानिकों ने एक ऐसा टैब तैयार किया है जो शरीर की मामूली हरकतों से बिजली पैदा करने में सक्षम है। अमेरिका की बफलो यूनिवर्सिटी के एक वैज्ञानिक ने बताया कि हमारा शरीर बड़ी मात्रा में ऊर्जा पैदा कर सकता है ऐसे मंे हमने यह विचार किया कि इस ऊर्जा का सही इस्तेमाल किया जाए। शोधकर्ताओं ने इसके लिए ‘ट्राइबोइलेक्ट्रिक’ तकनीक का इस्तेमाल किया। इस तकनीक में दो पदार्थों को एक दूसरे के संपर्क में लाकर ऊर्जा पैदा की जाती है। 


48 एलईडी बल्ब जलाने की क्षमता

यहां बता दें कि वैज्ञानिकों द्वारा तैयार किए गए इस टैब में सोने और ‘पीडीएमएस’ का इस्तेमाल किया गया है। इस टैब को जब शरीर के किसी भी हिस्से से जोड़ा जाता है तो तो उसकी हरकत से इसमें मौजूद दोनों पदार्थ संपर्क में आते हैं और ऊर्जा बनती है। जैसे कि कोई उंगली उठाता है, या हाथ घुमाता है या फिर पैर चलाता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस उपकरण की मदद से करीब 124 वोल्ट का करंट पैदा किया जा सकता है और इतनी ऊर्जा लाल रंग की करीब 48 एलईडी को एक साथ जला सकती है। अभी इस तकनीक के जरिए मोबाइल को तुरंत चार्ज नहीं किया जा सकता है शोधकर्ता इस ऊर्जा को जमा कैसे किया जाए इस पर भी विचार कर रहे हैं। 

Todays Beets: