Monday, May 21, 2018

Breaking News

   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||

अब लेजर के जरिए होगा मोबाइल चार्ज, वैज्ञानिकों ने किया लेजर एमिटर उपकरण का सफल परीक्षण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब लेजर के जरिए होगा मोबाइल चार्ज, वैज्ञानिकों ने किया लेजर एमिटर उपकरण का सफल परीक्षण

नई दिल्ली। अभी तक तो आपने मोबाइल फोन को चार्जर के जरिए ही चार्ज करने के बारे में सुना होगा लेकिन क्या आपको पता है कि अब वैज्ञानिकों ने एक ऐसे लेजर एमीटर उपकरण का विकास किया है जो बिना किसी तार की सहायता से अब मोबाइल रिचार्ज कर देगा। यह उपकरण एक कमरे के भीतर स्मार्टफोन को उतनी ही तेजी से चार्ज करता है जितनी तेजी से यूएसबी केबल जरिए होता हैै। बड़ी बात यह है कि जिन शोधकर्ताओं ने इस उपकरण का विकास किया है उनमें कुछ भारतीय मूल के वैज्ञानिक भी शामिल हैं। 

लेजर की गर्मी को कम कर देगा 

गौरतलब है कि वैज्ञानिकों ने एक पतले पाॅवर सेल को स्मार्टफोन के पीछे रखा जो कि लेजर की पावर का इस्तेमाल कर बिल्कुल सुरक्षित तरीके से मोबाइल को रिचार्ज कर देता है। बता दें कि वैज्ञानिकों ने इस बात का भी पूरा ध्यान रखा कि इस उपकरण से लोगों को किसी तरह का नुकसान नहीं हो, इसके लिए वैज्ञानिकों ने इस तकनीक में मेटल, फ्लैट-प्लेट हीटसिंक समेत कई सुरक्षा मानक भी तैयार किए जो कि लेजर से निकलने वाली गर्मी को कम करने का काम करते हैं।

सुरक्षा के उपाय


यहां बता दें कि वैज्ञानिकों ने इस तकनीक में ऐसा रिफ्लेक्टर भी विकसित किया है जिससे लेजर और मोबाइल के बीच में किसी के आने पर वह काम करना बंद कर देता है। अमेरिका के वाश्ंिगटन यूनिवर्सिटी में एसोसिएट प्रोफेसर श्याम गोल्लाकोटा ने बताया कि लेजर से स्मार्टफोन को रिचार्ज करने के तरीके का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है। प्रोफेसर ने बताया कि इस तकनीक में मोबाइल और एमिटर के बीच जैसे ही कोई आएगा वह काम करना बंद कर देता है। इसी शोध से जुडे़ दूसरे भारतीय वैज्ञानिक ने बताया कि इस तकनीक में चार्जिंग बीम से निकलने वाले तेज गर्मी को कम करने के भी उपाय हैं। उनका कहना है कि यह सभी सुविधा लेजर चार्जर को काफी सुरक्षित बनाता है। 

14 फीट की दूरी से कर सकेंगे चार्ज

एक पतली सी लेजर किरण 4.3 मीटर या करीब 14 फीट की दूरी से 15 वर्ग इंच क्षेत्र में 2 वॉट पॉवर देने में सक्षम है। 12 मीटर या 40 फीट की दूरी से चार्ज करने के लिए लेजर एमिटर का क्षेत्र 100 वर्ग सेंटीमीटर तक बढ़ाया जा सकता है।

Todays Beets: