Thursday, September 20, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

अब लेजर के जरिए होगा मोबाइल चार्ज, वैज्ञानिकों ने किया लेजर एमिटर उपकरण का सफल परीक्षण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब लेजर के जरिए होगा मोबाइल चार्ज, वैज्ञानिकों ने किया लेजर एमिटर उपकरण का सफल परीक्षण

नई दिल्ली। अभी तक तो आपने मोबाइल फोन को चार्जर के जरिए ही चार्ज करने के बारे में सुना होगा लेकिन क्या आपको पता है कि अब वैज्ञानिकों ने एक ऐसे लेजर एमीटर उपकरण का विकास किया है जो बिना किसी तार की सहायता से अब मोबाइल रिचार्ज कर देगा। यह उपकरण एक कमरे के भीतर स्मार्टफोन को उतनी ही तेजी से चार्ज करता है जितनी तेजी से यूएसबी केबल जरिए होता हैै। बड़ी बात यह है कि जिन शोधकर्ताओं ने इस उपकरण का विकास किया है उनमें कुछ भारतीय मूल के वैज्ञानिक भी शामिल हैं। 

लेजर की गर्मी को कम कर देगा 

गौरतलब है कि वैज्ञानिकों ने एक पतले पाॅवर सेल को स्मार्टफोन के पीछे रखा जो कि लेजर की पावर का इस्तेमाल कर बिल्कुल सुरक्षित तरीके से मोबाइल को रिचार्ज कर देता है। बता दें कि वैज्ञानिकों ने इस बात का भी पूरा ध्यान रखा कि इस उपकरण से लोगों को किसी तरह का नुकसान नहीं हो, इसके लिए वैज्ञानिकों ने इस तकनीक में मेटल, फ्लैट-प्लेट हीटसिंक समेत कई सुरक्षा मानक भी तैयार किए जो कि लेजर से निकलने वाली गर्मी को कम करने का काम करते हैं।

सुरक्षा के उपाय


यहां बता दें कि वैज्ञानिकों ने इस तकनीक में ऐसा रिफ्लेक्टर भी विकसित किया है जिससे लेजर और मोबाइल के बीच में किसी के आने पर वह काम करना बंद कर देता है। अमेरिका के वाश्ंिगटन यूनिवर्सिटी में एसोसिएट प्रोफेसर श्याम गोल्लाकोटा ने बताया कि लेजर से स्मार्टफोन को रिचार्ज करने के तरीके का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है। प्रोफेसर ने बताया कि इस तकनीक में मोबाइल और एमिटर के बीच जैसे ही कोई आएगा वह काम करना बंद कर देता है। इसी शोध से जुडे़ दूसरे भारतीय वैज्ञानिक ने बताया कि इस तकनीक में चार्जिंग बीम से निकलने वाले तेज गर्मी को कम करने के भी उपाय हैं। उनका कहना है कि यह सभी सुविधा लेजर चार्जर को काफी सुरक्षित बनाता है। 

14 फीट की दूरी से कर सकेंगे चार्ज

एक पतली सी लेजर किरण 4.3 मीटर या करीब 14 फीट की दूरी से 15 वर्ग इंच क्षेत्र में 2 वॉट पॉवर देने में सक्षम है। 12 मीटर या 40 फीट की दूरी से चार्ज करने के लिए लेजर एमिटर का क्षेत्र 100 वर्ग सेंटीमीटर तक बढ़ाया जा सकता है।

Todays Beets: