Tuesday, August 14, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

मोबाइल पोर्टेबिलिटी की सुविधा होगी बंद, टेलीकॉम कंपनी बदलने के लिए बदलना पड़ेगा अपना नंबर भी!

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मोबाइल पोर्टेबिलिटी की सुविधा होगी बंद, टेलीकॉम कंपनी बदलने के लिए बदलना पड़ेगा अपना नंबर भी!

नई दिल्ली। अगर आप अपनी मोबाइन नेटवर्क कंपनी की सेवाओं से संतुष्ट नहीं हैं तो इस समय आप अपने मोबाइल नंबर को बदले बिना अपनी सेवा प्रदाता कंपनी को बदल सकते हैं, लेकिन आने वाले दिनों में यह व्यवस्था खत्म होने जा रही है। नए नियमों के तहत आगामी वित्तवर्ष में इस तरह की सेवाएं बंद हो जाएंगी और अगर आपको अपनी सेवा प्रदाता कंपनी को बदलना है तो आपको अपना मोबाइल नंबर भी बदलना पड़ेगा। नए नियमों के तहत पुरानी मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की सुविधाएं बंद जाएंगी। MNP इंटरकनेक्शन टेलीकॉम सॉल्यूशंस और सिनिवर्स टेक्नोलॉजी कंपनियों ने टेलीकॉम विभाग (DOT) को पत्र लिखकर यह जानकारी दी है। देश में मोबाइल पोर्टेबिलिटी का काम देखने वाली कंपनियों का कहना है कि TRAI के MNP शुल्क में गिरावट के आदेश से उन्हें घाटा हुआ है ।

TRAI

 डॉट को लिखे पत्र में कहा गया है कि पिछले कुछ सालों से उनकी कंपनियां घाटे में चल रही हैं। मार्च 2019 इन कंपनियों के लाइसेंस की अंतिम तिथि होगी। इसके बाद ये कंपनियां अपनी सेवाएं बंद कर देंगी । कंपनियों का कहना है की जनवरी से पोर्टिंग फीस के कारण उन्हें 80 फीसदी का रोजाना नुकसान हो रहा है । कंपनियों ने मार्च 2018 तक 37 करोड़ पोर्टेबिलिटी अनुरोध स्वीकार किए हैं। वहीं मई में 2 करोड़ आवेदनों को प्रोसेस किया है । दक्षिण और पूर्वी भारत में मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी का काम देखने वाली एमएनपी इंटरकनेक्शन ने कहां है कि वह लाइसेंस सरेंडर कर देगी । लाइसेंस सरेंडर करने के बाद काम बंद कर दिया जाएगा। 

वहीं उत्तर और पश्चिम भारत का काम देखने वाली सिनिवर्स टेक को बहुत ज्यादा घाटा हुआ है । दोनों कंपनियों का कहना है कि ट्राई के एमएनपी शुल्क में गिरावट के आदेश से उन्हें घाटा हुआ है । दोनों कंपनियों ने ट्राई पर मनमाने और गैर-पारदर्शी तरीके से MNP शुल्क घटाने का आरोप लगाया है । ट्राई ने जनवरी 2018 में पोर्टेबिलिटी चार्ज 19 रुपये से 4 रुपये तक घटा दिया था। कंपनियों की आय का स्तोत्र केवल यही शुल्क हैं और ट्राई की इस हरकत से उन्हें भारी नुकसान का सामना करना पड़ा है । 2017 में टेलिकॉम इंडस्ट्री में रिलायंस जियो कम्पनी के आवगमन से भी MNP के आवेदन में 4 गुणा बढ़ोतरी हुई है । इस पूरे मामले की सुनवाई कोर्ट में 4 जुलाई को होगी । 


यह भी पढ़े -  नहीं चलेगा व्हाट्सएप पुराने स्मार्टफोन में, जानिए क्या हैं पूरी खबर

कंपनियों ने घाटे में चलने के कारण उन्होंने अपने व्यापार को बंद करने की जानकारी टेलीकॉम विभाग को दे दी है । कंपनियों के हालात इतने बदतर हैं कि वह अपने कर्मचारियों को वेतन भी नहीं दे पा रही है । इसके कारण पोर्टेबल सर्विसेस बंद कर दी जाएंगी , जिसका नुकसान ग्राहकों को भुगतना पड़ेगा क्योकि इसके चलते खराब नेटवर्क , कॉलिंग क्वालिटी , टैरिफ प्लांस और बिल सम्बंधित मसलों जैसी परेशानियों के बावजूद सर्विस प्रोवाइडर बदलना आसान नहीं होगा । नंबर बदलकर ही आपको सर्विस प्रोवाइडर बदलने का विकल्प चुनना पड़ेगा , शोर्ट में इस सर्विस का कोई विकल्प नहीं रह जाएगा । टेलिकॉम विभाग ने भी जल्द से जल्द समाधान निकलने के लिए कहां है । अगर कंपनियां अपना लाइसेंस का नवीनीकरण नहीं कराती तो टेलीकॉम विभाग का कहना है कि दूसरा रिप्लेसमेंट (कंपनी) ढूढ़ कर लाइसेंस देकर MNP सर्विस जारी रखी जा सकती है। अतः कोई समाधान नहीं निकलता तो पोर्टेबिलिटी सर्विसेस बंद ही कर दी जाएंगी।

यह भी पढ़े -  एक होंगे अइडिया और वोडाफोन, देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बनेंगे

Todays Beets: