Wednesday, March 27, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

आज से थम जाएंगे 108 और खुशियों की सवारी के पहिए, कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आज से थम जाएंगे 108 और खुशियों की सवारी के पहिए, कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार

देहरादून। उत्तराखंड की स्वास्थ्य व्यवस्था कुछ दिनों के लिए चरमरा सकती है। मांगों के पूरा नहीं होने की वजह से नाराज 108 एंबुलेंस सेवा के 717 फील्ड कर्मचारी बुधवार से सामूहिक कार्य बहिष्कार करेंगे। ऐसे में पूरे राज्य में 108 और खुशियों की सवारी  की सेवाएं मुहैया नहीं होंगी। हालांकि प्रबंधन की ओर से कार्य बहिष्कार करने वाले कर्मचारियों को बर्खास्त करने की चेतावनी दी है। बता दें कि इस समय पूरे राज्य में 108 सेवा की 139 एंबुलेंस और 95 खुशियों की सवारी चल रही हैं।

गौरतलब है कि 108 एंबुलेंस सेवा के कर्मचारियों के कार्य बहिष्कार के कारण ये इन सेवाओं का संचालन पूरी तरह से ठप रहेगा। बता दंे कि कर्मचारी अपनी मांग पर अड़े हुए हैं वहीं प्रबंधन ने कार्यबहिष्कार करने वाले कर्मचारियों को बर्खास्त करने की चेतावनी दी है। ऐसे में प्रबंधन और कर्मचारियों की रार का खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ेगा।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में आज लोगों को करना पड़ेगा परेशानियों का सामना, सवा लाख कार्मिक रहेंगे हड़ताल पर


यहां बता दें कि 108 एंबुलेंस सेवा कर्मचारी संघ के प्रदेश सचिव विपिन जमलोकी ने बताया कि कर्मचारियों ने 14-15 अगस्त का काटा गया वेतन लौटाने, प्रत्येक माह की 5 तारीख तक वेतन का भुगतान, कर्मचारियों की समस्याओं के समाधान के लिए समिति गठित करने और कर्मचारी विरोधी नीतियां न लागू करने की मांग को लेकर प्रबंधन से बात करने का प्रयास किया था लेकिन प्रबंधन बात करने के लिए तैयार नहीं हुआ। इसके बाद ही कर्मचारियों के द्वारा सामूहिक कार्य बहिष्कार का निर्णय लिया गया।

गौर करने वाली बात है कि प्रबंधन ने भी स्पष्ट कर दिया है कि वे कर्मचारियों की ब्लैकमेलिंग के आगे झुकने वाले नहीं हैं। प्रबंधन कहना है कि यह मामला कोर्ट में है और पूरे राज्य में एस्मा लागू है। ऐसे में बात करने का कोई औचित्य ही नहीं है जो भी कर्मचारी काम पर नहीं आएगा उसे बर्खास्त किया जाएगा। 

Todays Beets: