Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

आज से थम जाएंगे 108 और खुशियों की सवारी के पहिए, कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आज से थम जाएंगे 108 और खुशियों की सवारी के पहिए, कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार

देहरादून। उत्तराखंड की स्वास्थ्य व्यवस्था कुछ दिनों के लिए चरमरा सकती है। मांगों के पूरा नहीं होने की वजह से नाराज 108 एंबुलेंस सेवा के 717 फील्ड कर्मचारी बुधवार से सामूहिक कार्य बहिष्कार करेंगे। ऐसे में पूरे राज्य में 108 और खुशियों की सवारी  की सेवाएं मुहैया नहीं होंगी। हालांकि प्रबंधन की ओर से कार्य बहिष्कार करने वाले कर्मचारियों को बर्खास्त करने की चेतावनी दी है। बता दें कि इस समय पूरे राज्य में 108 सेवा की 139 एंबुलेंस और 95 खुशियों की सवारी चल रही हैं।

गौरतलब है कि 108 एंबुलेंस सेवा के कर्मचारियों के कार्य बहिष्कार के कारण ये इन सेवाओं का संचालन पूरी तरह से ठप रहेगा। बता दंे कि कर्मचारी अपनी मांग पर अड़े हुए हैं वहीं प्रबंधन ने कार्यबहिष्कार करने वाले कर्मचारियों को बर्खास्त करने की चेतावनी दी है। ऐसे में प्रबंधन और कर्मचारियों की रार का खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ेगा।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में आज लोगों को करना पड़ेगा परेशानियों का सामना, सवा लाख कार्मिक रहेंगे हड़ताल पर


यहां बता दें कि 108 एंबुलेंस सेवा कर्मचारी संघ के प्रदेश सचिव विपिन जमलोकी ने बताया कि कर्मचारियों ने 14-15 अगस्त का काटा गया वेतन लौटाने, प्रत्येक माह की 5 तारीख तक वेतन का भुगतान, कर्मचारियों की समस्याओं के समाधान के लिए समिति गठित करने और कर्मचारी विरोधी नीतियां न लागू करने की मांग को लेकर प्रबंधन से बात करने का प्रयास किया था लेकिन प्रबंधन बात करने के लिए तैयार नहीं हुआ। इसके बाद ही कर्मचारियों के द्वारा सामूहिक कार्य बहिष्कार का निर्णय लिया गया।

गौर करने वाली बात है कि प्रबंधन ने भी स्पष्ट कर दिया है कि वे कर्मचारियों की ब्लैकमेलिंग के आगे झुकने वाले नहीं हैं। प्रबंधन कहना है कि यह मामला कोर्ट में है और पूरे राज्य में एस्मा लागू है। ऐसे में बात करने का कोई औचित्य ही नहीं है जो भी कर्मचारी काम पर नहीं आएगा उसे बर्खास्त किया जाएगा। 

Todays Beets: