Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

बहुचर्चित टैक्सी बिल घोटाले में स्वास्थ्य विभाग के 12 अधिकारी दोषी, सरकार ने मांगा स्पष्टीकरण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बहुचर्चित टैक्सी बिल घोटाले में स्वास्थ्य विभाग के 12 अधिकारी दोषी, सरकार ने मांगा स्पष्टीकरण

देहरादून। राज्य के बहुचर्चित टैक्सी बिल घोटाले की तीसरी जांच में स्वास्थ्य विभाग के 12 अधिकारियों को दोषी पाया गया है। इन 12 में से 10 अधिकारियों से सरकार के द्वारा 15 दिनों के अंदर स्पष्टीकरण मांगा गया है। इनके जवाब मिलने क बाद इनपर कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि स्वास्थ्य विभाग में 2008 से लेकर 2013 के बीच हुए टैक्सी बिल घोटाले की जांच 2 महीने पूर्व अपर सचिव वित्त अरुणेंद्र चौहान को सौंपी गई थी। इस मामले में पहले ही दो जांच की जा चुकी है लेकिन कार्रवाई से पहले तीसरी विस्तृत जांच के निर्देश दिए गए थे। पूर्व अपर वित्त सचिव अरुणेंद्र चौहान ने अपनी रिपोर्ट शासन को दे दी है। 

नहीं हुई कार्रवाई

गौरतलब है कि पूर्व अपर सचिव की रिपोर्ट में विभाग के 12 अफसरों को दोषी पाया गया है। इनमें से 2 की मृत्यू भी हो चुकी है। ऐसे में बचे हुए 10 अफसरों को सरकार ने स्पष्टीकरण देने को कहा है। यहां गौर करने वाली बात है कि टैक्सी बिल घोटाले की जांच में दोषी पाए गए अधिकांश सीएमओ, सीएमएस स्तर के डॉक्टर निदेशक और अपर निदेशक स्तर के पदों पर काम करने के बाद सेवानिवृत्त हो चुके हैं लेकिन इस मामले में एक के बाद एक कई जांच कराए जाने की वजह से अभी तक दोषियों पर कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में विकास की रफ्तार होगी तेज, ब्रिटेन की 10 कंपनियां करेंगी निवेश


इनसे मांगा जवाब

डॉ. आरएस असवाल, डॉ. जीसी बौंठियाल, डॉ. मीनू राणा, डॉ. आरके पंत, डॉ. वाईएस राणा, डॉ. एसपी अग्रवाल, डॉ. राकेश कुमार सिन्हा, डॉ. बीके गैरोला, डॉ. दीपा शर्मा और डॉ. सुरेंद्र सकलानी।

सचिवालय प्रशासन ने नहीं की कार्रवाई

बता दें कि टैक्सी बिल घोटाले की पहले हुई जांच में दो पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा और डॉ रमेश पोखरियाल निशंक के पांच निजी सचिवों को भी दोषी पाया गया था। सचिवालय प्रशासन को दोषियों की जांच कर कार्रवाई करनी थी लेकिन उसकी तरफ से अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है। हालांकि सचिव सचिवालय प्रशासन हरबंस चुग ने बताया कि इस मामले की जांच चल रही है। जांच रिपोर्ट के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Todays Beets: