Monday, October 22, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

बहुचर्चित टैक्सी बिल घोटाले में स्वास्थ्य विभाग के 12 अधिकारी दोषी, सरकार ने मांगा स्पष्टीकरण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बहुचर्चित टैक्सी बिल घोटाले में स्वास्थ्य विभाग के 12 अधिकारी दोषी, सरकार ने मांगा स्पष्टीकरण

देहरादून। राज्य के बहुचर्चित टैक्सी बिल घोटाले की तीसरी जांच में स्वास्थ्य विभाग के 12 अधिकारियों को दोषी पाया गया है। इन 12 में से 10 अधिकारियों से सरकार के द्वारा 15 दिनों के अंदर स्पष्टीकरण मांगा गया है। इनके जवाब मिलने क बाद इनपर कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि स्वास्थ्य विभाग में 2008 से लेकर 2013 के बीच हुए टैक्सी बिल घोटाले की जांच 2 महीने पूर्व अपर सचिव वित्त अरुणेंद्र चौहान को सौंपी गई थी। इस मामले में पहले ही दो जांच की जा चुकी है लेकिन कार्रवाई से पहले तीसरी विस्तृत जांच के निर्देश दिए गए थे। पूर्व अपर वित्त सचिव अरुणेंद्र चौहान ने अपनी रिपोर्ट शासन को दे दी है। 

नहीं हुई कार्रवाई

गौरतलब है कि पूर्व अपर सचिव की रिपोर्ट में विभाग के 12 अफसरों को दोषी पाया गया है। इनमें से 2 की मृत्यू भी हो चुकी है। ऐसे में बचे हुए 10 अफसरों को सरकार ने स्पष्टीकरण देने को कहा है। यहां गौर करने वाली बात है कि टैक्सी बिल घोटाले की जांच में दोषी पाए गए अधिकांश सीएमओ, सीएमएस स्तर के डॉक्टर निदेशक और अपर निदेशक स्तर के पदों पर काम करने के बाद सेवानिवृत्त हो चुके हैं लेकिन इस मामले में एक के बाद एक कई जांच कराए जाने की वजह से अभी तक दोषियों पर कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में विकास की रफ्तार होगी तेज, ब्रिटेन की 10 कंपनियां करेंगी निवेश


इनसे मांगा जवाब

डॉ. आरएस असवाल, डॉ. जीसी बौंठियाल, डॉ. मीनू राणा, डॉ. आरके पंत, डॉ. वाईएस राणा, डॉ. एसपी अग्रवाल, डॉ. राकेश कुमार सिन्हा, डॉ. बीके गैरोला, डॉ. दीपा शर्मा और डॉ. सुरेंद्र सकलानी।

सचिवालय प्रशासन ने नहीं की कार्रवाई

बता दें कि टैक्सी बिल घोटाले की पहले हुई जांच में दो पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा और डॉ रमेश पोखरियाल निशंक के पांच निजी सचिवों को भी दोषी पाया गया था। सचिवालय प्रशासन को दोषियों की जांच कर कार्रवाई करनी थी लेकिन उसकी तरफ से अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है। हालांकि सचिव सचिवालय प्रशासन हरबंस चुग ने बताया कि इस मामले की जांच चल रही है। जांच रिपोर्ट के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Todays Beets: