Saturday, August 18, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

बहुचर्चित टैक्सी बिल घोटाले में स्वास्थ्य विभाग के 12 अधिकारी दोषी, सरकार ने मांगा स्पष्टीकरण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बहुचर्चित टैक्सी बिल घोटाले में स्वास्थ्य विभाग के 12 अधिकारी दोषी, सरकार ने मांगा स्पष्टीकरण

देहरादून। राज्य के बहुचर्चित टैक्सी बिल घोटाले की तीसरी जांच में स्वास्थ्य विभाग के 12 अधिकारियों को दोषी पाया गया है। इन 12 में से 10 अधिकारियों से सरकार के द्वारा 15 दिनों के अंदर स्पष्टीकरण मांगा गया है। इनके जवाब मिलने क बाद इनपर कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि स्वास्थ्य विभाग में 2008 से लेकर 2013 के बीच हुए टैक्सी बिल घोटाले की जांच 2 महीने पूर्व अपर सचिव वित्त अरुणेंद्र चौहान को सौंपी गई थी। इस मामले में पहले ही दो जांच की जा चुकी है लेकिन कार्रवाई से पहले तीसरी विस्तृत जांच के निर्देश दिए गए थे। पूर्व अपर वित्त सचिव अरुणेंद्र चौहान ने अपनी रिपोर्ट शासन को दे दी है। 

नहीं हुई कार्रवाई

गौरतलब है कि पूर्व अपर सचिव की रिपोर्ट में विभाग के 12 अफसरों को दोषी पाया गया है। इनमें से 2 की मृत्यू भी हो चुकी है। ऐसे में बचे हुए 10 अफसरों को सरकार ने स्पष्टीकरण देने को कहा है। यहां गौर करने वाली बात है कि टैक्सी बिल घोटाले की जांच में दोषी पाए गए अधिकांश सीएमओ, सीएमएस स्तर के डॉक्टर निदेशक और अपर निदेशक स्तर के पदों पर काम करने के बाद सेवानिवृत्त हो चुके हैं लेकिन इस मामले में एक के बाद एक कई जांच कराए जाने की वजह से अभी तक दोषियों पर कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में विकास की रफ्तार होगी तेज, ब्रिटेन की 10 कंपनियां करेंगी निवेश


इनसे मांगा जवाब

डॉ. आरएस असवाल, डॉ. जीसी बौंठियाल, डॉ. मीनू राणा, डॉ. आरके पंत, डॉ. वाईएस राणा, डॉ. एसपी अग्रवाल, डॉ. राकेश कुमार सिन्हा, डॉ. बीके गैरोला, डॉ. दीपा शर्मा और डॉ. सुरेंद्र सकलानी।

सचिवालय प्रशासन ने नहीं की कार्रवाई

बता दें कि टैक्सी बिल घोटाले की पहले हुई जांच में दो पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा और डॉ रमेश पोखरियाल निशंक के पांच निजी सचिवों को भी दोषी पाया गया था। सचिवालय प्रशासन को दोषियों की जांच कर कार्रवाई करनी थी लेकिन उसकी तरफ से अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है। हालांकि सचिव सचिवालय प्रशासन हरबंस चुग ने बताया कि इस मामले की जांच चल रही है। जांच रिपोर्ट के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Todays Beets: