Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

राज्य के लोगों और पर्यटकों की बढ़ी मुसीबतें, आज से थम गए कुमाऊं मंडल में 25 हजार टैक्सियों के पहिए 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्य के लोगों और पर्यटकों की बढ़ी मुसीबतें, आज से थम गए कुमाऊं मंडल में 25 हजार टैक्सियों के पहिए 

देहरादून। राज्य के पहाड़ी इलाकों में रहने वालों के साथ ही पर्यटकों की मुसीबतें शुक्रवार से बढ़ सकती हैं। जी हां, अपनी मांगों को लकर कुमाऊं मंडल में टैक्सी मैक्सी का हड़ताल शुरू हो गया है। हड़ताल की वजह से करीब 25 हजार टैक्सियों की रफ्तार पर ब्रेक लग जाएगा। बता दें कि इन टैक्सियों के जरिए रोजाना करीब 1 लाख से ज्यादा लोग सफर करते हैं। टैक्सियों के नहीं चलने से पर्वतीय जिलों में यातायात व्यवस्था ठप होने की आशंका है। बता दें कि अपनी मांगों को लेकर टैक्सी मैक्सी महासंघ के आह्वान पर गढ़वाल में 27 सितंबर से टैक्सी चालक हड़ताल पर हैं। 

गौरतलब है कि गढ़वाल में टैक्सी चालकों की हड़ताल का समर्थन कुमाऊं के टैक्सी चालकों ने भी किया है। उनका कहना है कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें लगातार बढ़ती जा रही हैं लेकिन सरकार किराया नहीं बढ़ा रही है। वहीं दूसरी ओर वाहन मालिकों से ग्रीन कार्ड के नाम पर वसूली की जा रही है। 

ये भी पढ़ें - भाजपा विधायक ने लव जेहाद के बदले लव क्रांति सेना बनाने की अपील, सीएम भी उतरे समर्थन में


यहां बता दें कि ओवर लोडिंग में ड्राइवर का लाइसेंस निरस्तीकरण, जुर्माना और मुकदमा होता है। टैक्सी चालकों का कहना है कि एक गलती की तीन-तीन सजाएं देकर उनका उत्पीड़न किया जा रहा है। सड़क हादसा होने पर चालक और वाहन स्वामी दोनों पर मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। स्पीड गर्वनर के नाम पर भी चालकों का उत्पीड़न किया जा रहा है। इसके विरोध में कुमाऊं में टैक्सी मैक्सी की हड़ताल की जा रही है। 

 

Todays Beets: