Saturday, April 21, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

नए सत्र में काॅलेजों में नहीं होगी प्राध्यापकों की दिक्कत, 253 संविदा शिक्षकों को मिला सेवा विस्तार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नए सत्र में काॅलेजों में नहीं होगी प्राध्यापकों की दिक्कत, 253 संविदा शिक्षकों को मिला सेवा विस्तार

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने प्रदेश के डिग्री काॅलेजों में संविदा के आधार पर अपनी सेवाएं देने वाले प्राध्यापकों  को बड़ा तोहफा दिया है। सरकार ने इन्हें अगले शिक्षा सत्र तक के लिए सेवा विस्तार देने का ऐलान किया है। इससे करीब 250 से ज्यादा शिक्षकों को फायदा होगा। इन शिक्षकों को सेवा विस्तार मिलने से काॅलेजों को शिक्षकों की कमी से नहीं जूझना पड़ेगा। बता दें कि राज्य की उच्च शिक्षा में सुधार लाने के मकसद से शिक्षकों को संविदा के आधार पर नियुक्ति दी गई थी। 

गौरतलब है कि उत्तराखंड के सरकारी शिक्षण संस्थानों में शिक्षकों की भारी कमी है और इस कमी को पूरा करने के लिए सरकार की तरफ से पूरी कोशिश की जा रही है। राज्य के दूरदराज के सरकारी डिग्री कॉलेजों में शिक्षकों की कमी दूर करने को सरकार ने संविदा शिक्षकों की नियुक्ति की है। इन शिक्षकों की नियुक्ति यूजीसी के नए नियमों के मुताबिक की गई है। 


ये भी पढ़ें - उपभोक्ताओं को लग सकता है बिजली का झटका, उत्तराखंड विद्युत नियामक आयोग नई दरों पर लगाएगा मुहर

बता दें कि छात्रों के पठन-पाठन को दुरुस्त करने में योगदान दे रहे इन शिक्षकों को सरकार ने बड़ी राहत दी है। उन्हें शैक्षिक सत्र 2018-19 के लिए संविदा अवधि बढ़ाई गई है। इस संबंध में अपर सचिव अशोक कुमार ने आदेश जारी किए हैं। यहां गौर करने वाली बात है कि अप्रैल से नए शिक्षा सत्र की शुरुआत हो रही है और ऐसे में स्कूलों और काॅलेजों में शिक्षकों की कमी के चलते छात्रों की शिक्षा पर असर पड़ सकता है। स्कूलों में भी शिक्षकों की कमी को दूर करने के लिए सरकार की तरफ से चयन आयोग जल्द भर्ती शुरू करने का अनुरोध किया गया है।

Todays Beets: