Sunday, January 20, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

पेयजल योजना में हुआ 60 लाख रुपये का घोटाला, कागजों में 2015 में काम हुआ पूरा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पेयजल योजना में हुआ 60 लाख रुपये का घोटाला, कागजों में 2015 में काम हुआ पूरा

देहरादून। उत्तराखंड में एक के बाद एक घोटाले का खुलासा हो रहा है। अब लोगों तक पीने का पानी पहुंचाने वाली ‘पेयजल स्कीम’ में भी घोटाला किया गया है। घनसाली के भिलंगना ब्लॉक में स्वैप के तहत निर्मित पेयजल योजना के नाम पर 60 लाख रुपये का भारी-भरकम खर्च दिखा दिया गया लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि यहां कोई काम ही नहीं हुआ। मामले की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है। बता दें कि साल 2011-12 में भिलंगना ब्लॉक के बूढ़ाकेदार के सुदूर मरवाड़ी गांव के लिए स्वैप योजना के तहत पेयजल योजना के निर्माण के लिए करीब 78 लाख रुपये का बजट पास किया गया था।

सीएम ने दिए जांच के आदेश

गौरतलब है पेयजल योजना को अमलीजामा पहनाने के लिए जल निगम की ओर से ग्रामीण पेयजल समिति के खाते में 60 लाख रुपये का भुगतान भी कर दिया गया। बजट मिलने के बाद भी यहां मौके पर कोई काम नहीं हुआ। इसके बाद स्थानीय निवासी राज सिंह पंवार ने इसकी शिकायत मुख्यमंत्री समाधान पोर्टल में कर जांच की मांग की थी। सीएम के निर्देश पर डीएम ने एसडीएम घनसाली को मामले की जांच करने को कहा। 

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड की ‘बेटी’ को मिलेगा नारी शक्ति पुरस्कार, राष्ट्रपति भवन में होगा सम्मान


मौके पर नहीं मिला सामान

यहां बता दें कि कानूनगो अवतार सिंह बुटोला ने 4 मार्च को जल निगम अधिकारियों के साथ योजना का निरीक्षण किया। इस निरीक्षण में उन्हें मौके पर पानी पहुंचाने वाला कोई भी सामान नहीं मिला जबकि इस काम को कागजों पर 2015 में ही पूरा दिखाया जा चुका है। अब जांच में इस बात का खुलासा हुआ कि इसमें कोई काम हुआ ही नहीं है। 

 

Todays Beets: