Wednesday, November 14, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

पेयजल योजना में हुआ 60 लाख रुपये का घोटाला, कागजों में 2015 में काम हुआ पूरा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पेयजल योजना में हुआ 60 लाख रुपये का घोटाला, कागजों में 2015 में काम हुआ पूरा

देहरादून। उत्तराखंड में एक के बाद एक घोटाले का खुलासा हो रहा है। अब लोगों तक पीने का पानी पहुंचाने वाली ‘पेयजल स्कीम’ में भी घोटाला किया गया है। घनसाली के भिलंगना ब्लॉक में स्वैप के तहत निर्मित पेयजल योजना के नाम पर 60 लाख रुपये का भारी-भरकम खर्च दिखा दिया गया लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि यहां कोई काम ही नहीं हुआ। मामले की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है। बता दें कि साल 2011-12 में भिलंगना ब्लॉक के बूढ़ाकेदार के सुदूर मरवाड़ी गांव के लिए स्वैप योजना के तहत पेयजल योजना के निर्माण के लिए करीब 78 लाख रुपये का बजट पास किया गया था।

सीएम ने दिए जांच के आदेश

गौरतलब है पेयजल योजना को अमलीजामा पहनाने के लिए जल निगम की ओर से ग्रामीण पेयजल समिति के खाते में 60 लाख रुपये का भुगतान भी कर दिया गया। बजट मिलने के बाद भी यहां मौके पर कोई काम नहीं हुआ। इसके बाद स्थानीय निवासी राज सिंह पंवार ने इसकी शिकायत मुख्यमंत्री समाधान पोर्टल में कर जांच की मांग की थी। सीएम के निर्देश पर डीएम ने एसडीएम घनसाली को मामले की जांच करने को कहा। 

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड की ‘बेटी’ को मिलेगा नारी शक्ति पुरस्कार, राष्ट्रपति भवन में होगा सम्मान


मौके पर नहीं मिला सामान

यहां बता दें कि कानूनगो अवतार सिंह बुटोला ने 4 मार्च को जल निगम अधिकारियों के साथ योजना का निरीक्षण किया। इस निरीक्षण में उन्हें मौके पर पानी पहुंचाने वाला कोई भी सामान नहीं मिला जबकि इस काम को कागजों पर 2015 में ही पूरा दिखाया जा चुका है। अब जांच में इस बात का खुलासा हुआ कि इसमें कोई काम हुआ ही नहीं है। 

 

Todays Beets: