Saturday, June 23, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

पेयजल योजना में हुआ 60 लाख रुपये का घोटाला, कागजों में 2015 में काम हुआ पूरा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पेयजल योजना में हुआ 60 लाख रुपये का घोटाला, कागजों में 2015 में काम हुआ पूरा

देहरादून। उत्तराखंड में एक के बाद एक घोटाले का खुलासा हो रहा है। अब लोगों तक पीने का पानी पहुंचाने वाली ‘पेयजल स्कीम’ में भी घोटाला किया गया है। घनसाली के भिलंगना ब्लॉक में स्वैप के तहत निर्मित पेयजल योजना के नाम पर 60 लाख रुपये का भारी-भरकम खर्च दिखा दिया गया लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि यहां कोई काम ही नहीं हुआ। मामले की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है। बता दें कि साल 2011-12 में भिलंगना ब्लॉक के बूढ़ाकेदार के सुदूर मरवाड़ी गांव के लिए स्वैप योजना के तहत पेयजल योजना के निर्माण के लिए करीब 78 लाख रुपये का बजट पास किया गया था।

सीएम ने दिए जांच के आदेश

गौरतलब है पेयजल योजना को अमलीजामा पहनाने के लिए जल निगम की ओर से ग्रामीण पेयजल समिति के खाते में 60 लाख रुपये का भुगतान भी कर दिया गया। बजट मिलने के बाद भी यहां मौके पर कोई काम नहीं हुआ। इसके बाद स्थानीय निवासी राज सिंह पंवार ने इसकी शिकायत मुख्यमंत्री समाधान पोर्टल में कर जांच की मांग की थी। सीएम के निर्देश पर डीएम ने एसडीएम घनसाली को मामले की जांच करने को कहा। 

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड की ‘बेटी’ को मिलेगा नारी शक्ति पुरस्कार, राष्ट्रपति भवन में होगा सम्मान


मौके पर नहीं मिला सामान

यहां बता दें कि कानूनगो अवतार सिंह बुटोला ने 4 मार्च को जल निगम अधिकारियों के साथ योजना का निरीक्षण किया। इस निरीक्षण में उन्हें मौके पर पानी पहुंचाने वाला कोई भी सामान नहीं मिला जबकि इस काम को कागजों पर 2015 में ही पूरा दिखाया जा चुका है। अब जांच में इस बात का खुलासा हुआ कि इसमें कोई काम हुआ ही नहीं है। 

 

Todays Beets: