Wednesday, April 24, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

देवभूमि के वृक्ष मानव विश्वेश्वर सकलानी का 98 वर्ष में निधन

अंग्वाल संवाददाता
देवभूमि के वृक्ष मानव विश्वेश्वर सकलानी का 98 वर्ष में निधन

टिहरी । उत्तराखंड में वृक्ष मानव के नाम से मशहूर 98 वर्षीय विश्वेश्वर दत्त सकलानी का शुक्रवार सुबह अपने पैतृक गांव में निधन हो गया। वह टिहरी जिले की सकलाना पट्टी के पुजारा गांव के निवासी थे। उनके पुत्र ने बताया कि गुरुवार रात वह खाना खाने के बाद सो गए थे लेकिन शुक्रवार सुबह जब उन्हें चाय देने के लिए उठाया तो वह स्वर्ण सिधार चुके थे। बता दें कि 2 जून 1922 को जन्मे विश्वेश्वर सकलानी को पेड़ लगाने का बहुत शौक था। वर्ष 1956 में जब उनकी पत्नी का निधन हुआ तो उस दौरान उनका इलाका वृक्षविहिन था। ऐसे में


उन्होंने अन्य काम छोड़ पौधरोपण को अपने जीवन का लक्ष्य बना लिया था। एक अनुमान के अनुसार, उन्होंने करीब 40 लाख पौध लगाई। उन्होंने अपने प्रयासों से करीब एक हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल में पौधरोरण कर जंगल तैयार किया। उन्होंने अपने इलाके में बांज , बुरांश और देवदार के पेड़ लगाने शुरू किए थे।

Todays Beets: