Sunday, February 17, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

देवभूमि के वृक्ष मानव विश्वेश्वर सकलानी का 98 वर्ष में निधन

अंग्वाल संवाददाता
देवभूमि के वृक्ष मानव विश्वेश्वर सकलानी का 98 वर्ष में निधन

टिहरी । उत्तराखंड में वृक्ष मानव के नाम से मशहूर 98 वर्षीय विश्वेश्वर दत्त सकलानी का शुक्रवार सुबह अपने पैतृक गांव में निधन हो गया। वह टिहरी जिले की सकलाना पट्टी के पुजारा गांव के निवासी थे। उनके पुत्र ने बताया कि गुरुवार रात वह खाना खाने के बाद सो गए थे लेकिन शुक्रवार सुबह जब उन्हें चाय देने के लिए उठाया तो वह स्वर्ण सिधार चुके थे। बता दें कि 2 जून 1922 को जन्मे विश्वेश्वर सकलानी को पेड़ लगाने का बहुत शौक था। वर्ष 1956 में जब उनकी पत्नी का निधन हुआ तो उस दौरान उनका इलाका वृक्षविहिन था। ऐसे में


उन्होंने अन्य काम छोड़ पौधरोपण को अपने जीवन का लक्ष्य बना लिया था। एक अनुमान के अनुसार, उन्होंने करीब 40 लाख पौध लगाई। उन्होंने अपने प्रयासों से करीब एक हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल में पौधरोरण कर जंगल तैयार किया। उन्होंने अपने इलाके में बांज , बुरांश और देवदार के पेड़ लगाने शुरू किए थे।

Todays Beets: