Tuesday, November 20, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

राजाजी पार्क में हुए भर्ती घपले पर हाईकोर्ट हुआ सख्त, इससे जुड़े अधिकारियों पर गिरेगी गाज 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राजाजी पार्क में हुए भर्ती घपले पर हाईकोर्ट हुआ सख्त, इससे जुड़े अधिकारियों पर गिरेगी गाज 

देहरादून। उत्तराखंड के राजाजी नेशनल पार्क में साल 2015 में करीब 21 फाॅरेस्ट गार्डों की नियुक्ति करने वाले अधिकारियों पर अब कानूनी शिकंजा कसेगा। नैनीताल हाईकोर्ट ने पार्क के निदेशक की जांच को सही मानते हुए कहा कि हाईकोर्ट ने इन अभ्यर्थियों की ओर से डाली गई याचिका को खारिज कर दिया। कोर्ट ने याचिका खारिज करते हुए कहा कि उन्होंने सही प्रमाणपत्रों वाले उम्मीदवारों की भर्ती के आदेश दिए थे। कोर्ट ने कहा कि अगर एक भी उम्मीदवार के प्रमाणपत्र सही नहीं थे तो उसे नियुक्ति देना सही नहीं था। 

गौरतलब है कि कोर्ट के इस आदेश के बाद अब तत्कालीन 5 वन अधिकारियों पर कार्रवाई होनी तय मानी जा रही है। इन अधिकारियों में 4 के ऊपर कार्रवाई की संस्तुति पहले की की जा चुकी है। इन अधिकारियों पर दैनिक श्रमिकों से काम के नाम पर लाखों रुपये का घोटाला भी किया गया है। बता दें कि राजाजी पार्क में भर्ती किए गए इन सभी उम्मीदवारों के प्रमाणपत्रों को लेकर की गई शिकायत के बाद इसकी जांच की गई। 

ये भी पढ़ें - चमोली और मसूरी में हो रही भारी बारिश बनी मुसीबत, पहाड़ों से मलबा गिरने से यातायात ठप


यहां बता दें कि जांच में प्रमाणपत्रों के फर्जी होने का शक होने पर पार्क निदेशक ने सभी की नियुक्ति पर रोक लगा दी। इसके बाद ये सभी वनरक्षक हाईकोर्ट में चले गए। हाईकोर्ट ने पार्क के डायरेक्टर की अध्यक्षता में कमेटी बनाकर दोबारा जांच के आदेश दिए, दोबारा हुई जांच में भी प्रमाणपत्र फर्जी पाए गए और किसी को नियुक्ति नहीं दी गई। ऐसे में वनरक्षकों ने एक बार फिर कोर्ट पहुंचकर निदेशक के खिलाफ अदालत की अवमानना का आरोप लगा दिया। अब कोर्ट ने इस पर सुनवाई करते हुए निदेशक की जांच को ही सही माना है और कहा कि हाईकोर्ट ने सही प्रमाणपत्रों वाले उम्मीदवारों को ही नियुक्ति देने के आदेश दिए थे। 

 

Todays Beets: