Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

सरकारी स्कूलों की तर्ज पर कम छात्र वाले अशासकीय स्कूल भी होंगे बंद, शिक्षकों की नियुक्ति भी सरकार ही करेगी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सरकारी स्कूलों की तर्ज पर कम छात्र वाले अशासकीय स्कूल भी होंगे बंद, शिक्षकों की नियुक्ति भी सरकार ही करेगी

देहरादून। राज्य की शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाने के लिए सरकार की ओर से लगातार कदम उठाए जा रहे हैं। सरकारी स्कूलों की तर्ज पर अब 10 से कम छात्रों वाले सहायता प्राप्त अशासकीय स्कूल भी बंद किए जाएंगे। इसके साथ ही इन स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति का अधिकार भी सरकार अपने हाथों में लेने जा रही है। गौर करने वाली बात है कि पिछले दिनों इन स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति में बड़े गड़बड़झाले की खबर मिली थी। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि सरकार इन विषयों पर गंभीरता से विचार कर रही है।

गौरतलब है कि रुद्रप्रयाग के विधायक भरत सिंह चौधरी ने सरकार से पूछा कि कम छात्र संख्या वाले सरकारी स्कूलों को बंद किया जा रहा है लेकिन यह हाल सरकारी सहायता प्राप्त अशासकीय स्कूलों का भी क्या उन्हें भी बंद किया जाएगा? इसके साथ ही उन्होंने इन स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति का भी मुद्दा उठाया। जवाब में शिक्षा मंत्री ने कहा कि सरकार इस मसले पर गंभीरता से विचार कर रही है। स्कूलों में सफाईकर्मी की नियुक्ति नहीं होने और छात्रों से सफाई कराने के सवाल पर मंत्री सही तरीके से जवाब नहीं दे पाए लेकिन उन्होंने कहा कि छात्रों को श्रमदान के जरिए आसपास की सफाई के लिए जागरूक किया जाता है। 

ये भी पढ़ें - प्रदेश में बिजली की कमी अब होगी दूर, ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश करेगा अडानी ग्रुप


यहां बता दें कि यमकेश्वर की विधायक ऋतु खंडूरी ने कहा कि सरकार ने सभी स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबांे को लागू तो कर दिया लेकिन अभी तक बच्चों को किताबें मुहैया नहीं कराई गई है। ऐसे में उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। 

 

Todays Beets: