Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

उत्तराखंड बोर्ड हो सकता है बंद, सभी हाईस्कूल और इंटर काॅलेज होंगे सीबीएसई के अधीन! 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड बोर्ड हो सकता है बंद, सभी हाईस्कूल और इंटर काॅलेज होंगे सीबीएसई के अधीन! 

देहरादून। नए साल में उत्तराखंड के छात्रों को एक बड़ा झटका लग सकता है। उत्तराखंड बोर्ड के सभी सरकारी हाईस्कूल और इंटर कॉलेज जल्द सीबीएसई (सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजूकेशन) के अधीन हो सकते हैं। प्रदेश सरकार और सीबीएसई के बीच इस संबंध में बातचीत शुरू हो गई है। अगर ऐसा होता है तो उत्तराखंड बोर्ड पूरी तरह से खत्म हो जाएगा। 

गौरतलब है कि उत्तराखंड बोर्ड को समाप्त करने से पहले सरकार सभी तकनीकी पहलुओं को देख रही है। खबरों के अनुसार शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे और सीबीएसई के अधिकारियों के बीच हाई स्कूलों और इंटर काॅलेजों को सीबीएसई के अधीन लाने के लिए बातचीत शुरू कर दी गई है। 

ये भी पढ़ें - अब 'उत्तराखंडी' चाय की खुशबू और फैलेगी, कफलांग में फैक्ट्री लगाने की प्रक्रिया शुरू


यहां बता दें कि अरविंद पांडे ने कुमाऊं क्षेत्र में सीबीएसई का क्षेत्रीय कार्यालय खोलने का भी प्रस्ताव रखा है। बता दें कि शिक्षा मंत्री ने प्रदेश के सभी हाईस्कूल और इंटर कॉलेजों को सीबीएसई के अधीन करने पर भी चर्चा की। अगर ऐसा होता है तो प्रदेश के करीब 2300 हाईस्कूल व इंटर कॉलेज, उत्तराखंड बोर्ड से हटकर सीबीएसई से मान्य हो जाएंगे। इन सभी कॉलेजों में फिर सीबीएसई के नियम ही लागू होंगे। 

ऐसा कहा जा रहा है कि अगर प्रदेश के सभी हाईस्कूल और इंटर काॅलेज सीबीएसई के अधीन होने से राज्य के दुर्गम इलाकों में रहने वाले छात्रों की प्रतियोगी परीक्षाओं तक पहुंचने की राह आसान हो जाएगी। स्कूलों के सीबीएसई के अधीन आने से देहरादून क्षेत्रीय कार्यालय का भार बढ़ जाएगा। आपको बता दें कि दिल्ली और छत्तीसगढ़ में पहले से सभी सरकारी हाईस्कूल और इंटर कॉलेज सीबीएसई से मान्यता प्राप्त हैं। इन राज्यों में स्टेट का कोई बोर्ड नहीं है।

Todays Beets: