Wednesday, June 20, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

दून की अमिषा चौहान ने दक्षिण अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी को 54 घंटे में किया फतह, सीएम ने दी बधाई 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दून की अमिषा चौहान ने दक्षिण अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी को 54 घंटे में किया फतह, सीएम ने दी बधाई 

देहरादून। उत्तराखंड की बेटी अमिषा चौहान ने प्रदेश के साथ पूरे देश का नाम रोशन किया है। अमिषा ने मात्र 54 घंटे में दक्षिण अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलिमंजारों के ऊरू को फतह किया है। बताया जा रहा है कि ऐसा करने वाली वे भारत की पहली महिला हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अमिषा को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। 

ऊरू की चोटी को किया फतह

गौरतलब है कि अमिषा देहरादून के नकरौंदा इलाके की रहने वाली हैं और उनके पिता भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हो चुके हैं। यहां बता दें कि कुछ दिनों पहले मुख्यमंत्री ने ही पर्वतारोहियों के दल को झंडा दिखाकर दक्षिण अफ्रीका के लिए रवाना किया था। अमिषा चौहान ने 28 दिसंबर को ऊरू पर पढ़ाई शुरू की थी और 30 दिसंबर को करीब 34 घंटे की चढ़ाई के बाद उसने चोटी पर कदम रखा उसके बाद उतरने में उसे 20 घंटे लगे।  यह चोटी 19 हजार 341 फीट ऊंची है। अमिषा ने कहा कि केवल 54 घंटे में इस लक्ष्य को हासिल करने वाली वो पहली भारतीय महिला हैं। आपको बता दें कि राज्य के मुख्यमंत्री ने उन्हें बधाई देते हुए कहा कि सरकार उनकी आने वाली योजनाओं में पूरी मदद करेगी। अमिषा ने अपनी उपलब्धि को उत्तराखंड के नाम समर्पित किया है। बता दें कि इस पर्वत की ऊंचाई करीब साढ़े 19 हजार फीट है ।

 अमिषा न केवल प्रदेश बल्कि देश की सभी बेटियों के लिए किसी मिसाल से कम नहीं हैं। इस अवसर पर अमिषा के पिता सूबेदार मेजर (सेनि) रविंद्र सिंह चौहान भी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि अमिषा चौहान के साहसिक अभियान से युवाओं विशेषकर बालिकाओं में साहसिक खेलों के प्रति रूचि पैदा होगी और प्रेरणा मिलेगी। 


ये भी पढ़ें - अब सरकारी स्कूलों के बच्चे भी बोलेंगे अंग्रेजी, निजी स्कूलों की तर्ज पर होगी पढ़ाई

 

 

Todays Beets: