Monday, January 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

दून की अमिषा चौहान ने दक्षिण अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी को 54 घंटे में किया फतह, सीएम ने दी बधाई 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दून की अमिषा चौहान ने दक्षिण अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी को 54 घंटे में किया फतह, सीएम ने दी बधाई 

देहरादून। उत्तराखंड की बेटी अमिषा चौहान ने प्रदेश के साथ पूरे देश का नाम रोशन किया है। अमिषा ने मात्र 54 घंटे में दक्षिण अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलिमंजारों के ऊरू को फतह किया है। बताया जा रहा है कि ऐसा करने वाली वे भारत की पहली महिला हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अमिषा को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। 

ऊरू की चोटी को किया फतह

गौरतलब है कि अमिषा देहरादून के नकरौंदा इलाके की रहने वाली हैं और उनके पिता भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हो चुके हैं। यहां बता दें कि कुछ दिनों पहले मुख्यमंत्री ने ही पर्वतारोहियों के दल को झंडा दिखाकर दक्षिण अफ्रीका के लिए रवाना किया था। अमिषा चौहान ने 28 दिसंबर को ऊरू पर पढ़ाई शुरू की थी और 30 दिसंबर को करीब 34 घंटे की चढ़ाई के बाद उसने चोटी पर कदम रखा उसके बाद उतरने में उसे 20 घंटे लगे।  यह चोटी 19 हजार 341 फीट ऊंची है। अमिषा ने कहा कि केवल 54 घंटे में इस लक्ष्य को हासिल करने वाली वो पहली भारतीय महिला हैं। आपको बता दें कि राज्य के मुख्यमंत्री ने उन्हें बधाई देते हुए कहा कि सरकार उनकी आने वाली योजनाओं में पूरी मदद करेगी। अमिषा ने अपनी उपलब्धि को उत्तराखंड के नाम समर्पित किया है। बता दें कि इस पर्वत की ऊंचाई करीब साढ़े 19 हजार फीट है ।

 अमिषा न केवल प्रदेश बल्कि देश की सभी बेटियों के लिए किसी मिसाल से कम नहीं हैं। इस अवसर पर अमिषा के पिता सूबेदार मेजर (सेनि) रविंद्र सिंह चौहान भी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि अमिषा चौहान के साहसिक अभियान से युवाओं विशेषकर बालिकाओं में साहसिक खेलों के प्रति रूचि पैदा होगी और प्रेरणा मिलेगी। 


ये भी पढ़ें - अब सरकारी स्कूलों के बच्चे भी बोलेंगे अंग्रेजी, निजी स्कूलों की तर्ज पर होगी पढ़ाई

 

 

Todays Beets: