Friday, December 14, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

लोहाघाट के ‘अनिल’ बने आंध्र प्रदेश के मुख्य सचिव, जानें कैसे बने नायडू की पसंद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लोहाघाट के ‘अनिल’ बने आंध्र प्रदेश के मुख्य सचिव, जानें कैसे बने नायडू की पसंद

देहरादून। उत्तराखंड के ताल्लुक रखने वाले अधिकारियों ने हर मौके पर अपनी काबिलियत और नेतृत्व कौशल का परिचय दिया है। यही वजह है कि आज देश के अहम पदों पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं। अब इस कड़ी में लोहाघाट के रहने वाले अनिल चंद्र पुनेठा का नाम भी जुड़ गया है। साल 1984 बैच के आईएएस अधिकारी रहे पुनेठा को आंध्र प्रदेश का मुख्य सचिव बनाया गया है। बता दें कि अपनी कार्यकुशलता और नेतृत्व क्षमता की वजह से ही अनिल चंद्र पुनेठा मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू की पहली पसंद बने हैं। 

गौरतलब है कि अनिल चंद्र पुनेठा मूल रूप से उत्तराखंड के लोहाघाट के रहने वाले हैं। उनकी प्रारंभिक शिक्षा लोहाघाट के प्राइमरी स्कूल और गवर्नमेंट इंटर काॅलेज (जीआईसी) में हुई। दिल्ली विश्वविद्यालय से एलएलएम की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने प्रशासनिक परीक्षा दी और चुने गए। उन्हें आंध्र प्रदेश कैडर मिला है। बता दें कि अनिल चंद्र पुनेठा का सेवाकाल अभी 2 साल और बाकी है। 

ये भी पढ़ें - कोटद्वार से स्योलखांद जा रही बस गिरी खाई में, बस चालक समेत कई यात्री घायल

यहां बता दें कि पुनेठा को करीब से जानने वालों का कहना है कि आज भी वे खास मौकों पर लोहाघाट आते हैं। लोगों का कहना है कि अनिल चंद्र पुनेठा काफी सौम्य और शांत स्वभाव के हैं। अनिल के पिता का करीब 8 माह पूर्व ही निधन हुआ है। अनिल के भाई रमेश चंद्र पुनेठा सिंकदराबाद में रेल विभाग में निदेशक हैं। भुवन चंद्र राय और कृष्णानंद जोशी अपने बचपन के दोस्त की इस कामयाबी से गदगद हैं। कहते हैं कि प्रखर बुद्धि के अनिल का ज्यादातर वक्त किताबों के साथ बीतता था। 


अनिल की जिंदगी के  अहम पड़ाव 

- शुरुआत कड़प्पा जिले के राजामपेट में उप जिला मजिस्ट्रेट। 

- श्रीकाकुलम के जिला मजिस्ट्रेट।  

- स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायती राज के प्रमुख सचिव।  

- मुख्य सचिव बनने से पहले भूमि प्रशासनिक प्रमुख। 

Todays Beets: