Thursday, February 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

उत्तराखंड में अब नहीं होगी एएनएम की पढ़ाई, रोजगार के कम होते अवसर की वजह से लिया फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में अब नहीं होगी एएनएम की पढ़ाई, रोजगार के कम होते अवसर की वजह से लिया फैसला

देहरादून। उत्तराखंड से एएनएम का कोर्स करने वालों के लिए बेहद निराशाजनक खबर है। प्रदेश के सरकारी और प्राईवेट दोनों नर्सिंग काॅलेजों में एएनएम की पढ़ाई अब बंद होने वाली है। इसके पहले चरण में ही नए नर्सिंग कॉलेजों को एएनएम कोर्स की मान्यता पर रोक लगा दी गई है। इसके बाद अब सभी सरकारी एएनएम सेंटरों में भी इस कोर्स को बंद किया जाएगा। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में आयोजित इम्पावर्ड कमेटी की बैठक में यह फैसला लिया गया। 

नौकरी के कम अवसर

गौरतलब है कि इस वक्त में राज्य में इस समय 6 सरकारी एएनएम सेंटर हैं जबकि 15 से अधिक प्राईवेट नर्सिंग कॉलेजों में भी यह कोर्स कराया जा रहा है। बता दें कि यहां से कोर्स करने वाले एएनएम प्रशिक्षितों को स्वास्थ्य विभाग के एएनएम सेंटर या फील्ड कर्मचारी के रूप में तैनाती दी जाती है लेकिन इस क्षेत्र में नौकरियों के अवसर लगातार कम होते जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड के मुख्यमंत्री भी कूदे राहुल विवाद प्रकरण में, कहा- गधे को किसी शैंपू या साबून से न...

एएनएम सेंटर में नर्सिंग कोर्स


आपको बता दें कि प्राईवेट अस्पतालों में भी अब एएनएम के लिए ज्यादा मौके नहीं हैं यही वजह है कि इस कोर्स को बंद करने का निर्णय लिया गया है। अब नए कॉलेजों को एएनएम कोर्स की मान्यता नहीं दी जा रही है। इसके बाद सरकारी एएनएम सेंटरों को भी बंद करते हुए उन्हें नर्सिंग कॉलेजों में तब्दील किया जाएगा। इन काॅलेजों में एएनएम की जगह पर जीएनएम, बीएससी नर्सिंग, पोस्ट बीएससी नर्सिंग और एमएससी नर्सिंग जैसे कोर्स संचालित किए जाएंगे।

निजी क्षेत्र में 80 प्रतिशत रोजगार 

नर्सिंग की पढ़ाई करने के बाद युवाओं को राज्य में अभी तक शत-प्रतिशत रोजगार मिल रहा है। नर्सिंग कोर्स करने के बाद 20 प्रतिशत रोजगार सरकारी सेक्टर और 80 प्रतिशत रोजगार प्राईवेट क्षेत्र में मिल रहा है। राज्य में नए मेडिकल कॉलेज और प्राइवेट अस्पताल खुलने से इस क्षेत्र में रोजगार के नए अवसर पैदा होने जा रहे हैं। इसीलिए सरकार एएनएम कोर्स को बंद कर जीएनएम और दूसरे बड़े कोर्स पर अपना ध्यान केन्द्रित कर रही है।

 

Todays Beets: