Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

भगवानपुर में असामाजिक तत्वों ने बाबा साहेब की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, भारी संख्या में पुलिस बल तैनात

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भगवानपुर में असामाजिक तत्वों ने बाबा साहेब की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, भारी संख्या में पुलिस बल तैनात

रुड़की। उत्तरपूर्वी राज्य से शुरू हुए मूर्ति तोड़ने का सिलसिला अब भी थमा नहीं है। देर रात हरिद्वार के भगवानपुर इलाके में कुछ असामाजिक तत्वों ने बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर की मूर्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया। इस घटना की जानकारी मिलते ही सुबह दलित समाज के लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए वहां अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया है। 

गौरतलब है कि भगवानपुर इलाके में भीमराव अंबेडकर की मूर्ति के साथ हुई तोड़फोड़ की सूचना मिलते ही भीम आर्मी के लोग भी वहां पहुंच गए और पुलिस के सामने घटना को अंजाम देने वालों की फौरन गिरफ्तारी की मांग की है। स्थिति तनावपूर्ण न हो इसके लिए पुलिस ने पहले से ही एहतियात बरतते हुए अतिरिक्त पुलिस बल को मौके पर तैनात कर दिया है। 

ये भी पढ़ें - जल्द ही पूरा उत्तराखंड होगा डिजिटल, रिलायंस करेगा इंटरनेट और हॉस्पिटैलिटी क्षेत्र का विकास


यहां बता दें कि बड़े नेताओं और विचारकों की मूर्तियों को तोड़ने का सिलसिला त्रिपुरा में हुए चुनाव के बाद से शुरू हुआ था। वहां 25 सालों की वामपंथी सरकार के सत्ता से बाहर आने के बाद लेनिन की मूर्ति को गिरा दिया गया था। इसके बाद से कई राज्यों में महान लोगों की मूर्तियों को क्षतिग्रस्त करने का सिलसिला जारी रहा। इनमें पेरियार से लेकर भीमराव अंबेडकर, जवाहर लाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस और यहां तक महात्मा गांधी की मूर्तियां भी शामिल रहीं थीं।   

 

Todays Beets: