Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

भगवानपुर में असामाजिक तत्वों ने बाबा साहेब की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, भारी संख्या में पुलिस बल तैनात

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भगवानपुर में असामाजिक तत्वों ने बाबा साहेब की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, भारी संख्या में पुलिस बल तैनात

रुड़की। उत्तरपूर्वी राज्य से शुरू हुए मूर्ति तोड़ने का सिलसिला अब भी थमा नहीं है। देर रात हरिद्वार के भगवानपुर इलाके में कुछ असामाजिक तत्वों ने बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर की मूर्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया। इस घटना की जानकारी मिलते ही सुबह दलित समाज के लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए वहां अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया है। 

गौरतलब है कि भगवानपुर इलाके में भीमराव अंबेडकर की मूर्ति के साथ हुई तोड़फोड़ की सूचना मिलते ही भीम आर्मी के लोग भी वहां पहुंच गए और पुलिस के सामने घटना को अंजाम देने वालों की फौरन गिरफ्तारी की मांग की है। स्थिति तनावपूर्ण न हो इसके लिए पुलिस ने पहले से ही एहतियात बरतते हुए अतिरिक्त पुलिस बल को मौके पर तैनात कर दिया है। 

ये भी पढ़ें - जल्द ही पूरा उत्तराखंड होगा डिजिटल, रिलायंस करेगा इंटरनेट और हॉस्पिटैलिटी क्षेत्र का विकास


यहां बता दें कि बड़े नेताओं और विचारकों की मूर्तियों को तोड़ने का सिलसिला त्रिपुरा में हुए चुनाव के बाद से शुरू हुआ था। वहां 25 सालों की वामपंथी सरकार के सत्ता से बाहर आने के बाद लेनिन की मूर्ति को गिरा दिया गया था। इसके बाद से कई राज्यों में महान लोगों की मूर्तियों को क्षतिग्रस्त करने का सिलसिला जारी रहा। इनमें पेरियार से लेकर भीमराव अंबेडकर, जवाहर लाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस और यहां तक महात्मा गांधी की मूर्तियां भी शामिल रहीं थीं।   

 

Todays Beets: