Thursday, November 22, 2018

Breaking News

   ऑस्ट्रेलिया के PM मॉरिशन बोले- भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था     ||   पश्चिम बंगालः सिलीगुड़ी की तीस्ता नहर में 4 जिंदा मोर्टार सेल बरामद     ||   मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः कोर्ट ने मंजू वर्मा को 1 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा     ||   करतारपुर साहिब कॉरिडोर को मंजूरी देने पर CM अमरिंदर ने PM मोदी को कहा- शुक्रिया     ||   करतारपुर कॉरिडोर पर मोदी सरकार की मंजूरी के बाद बोला PAK- जल्द देंगे गुड न्यूज     ||   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||

भगवानपुर में असामाजिक तत्वों ने बाबा साहेब की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, भारी संख्या में पुलिस बल तैनात

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भगवानपुर में असामाजिक तत्वों ने बाबा साहेब की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, भारी संख्या में पुलिस बल तैनात

रुड़की। उत्तरपूर्वी राज्य से शुरू हुए मूर्ति तोड़ने का सिलसिला अब भी थमा नहीं है। देर रात हरिद्वार के भगवानपुर इलाके में कुछ असामाजिक तत्वों ने बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर की मूर्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया। इस घटना की जानकारी मिलते ही सुबह दलित समाज के लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए वहां अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया है। 

गौरतलब है कि भगवानपुर इलाके में भीमराव अंबेडकर की मूर्ति के साथ हुई तोड़फोड़ की सूचना मिलते ही भीम आर्मी के लोग भी वहां पहुंच गए और पुलिस के सामने घटना को अंजाम देने वालों की फौरन गिरफ्तारी की मांग की है। स्थिति तनावपूर्ण न हो इसके लिए पुलिस ने पहले से ही एहतियात बरतते हुए अतिरिक्त पुलिस बल को मौके पर तैनात कर दिया है। 

ये भी पढ़ें - जल्द ही पूरा उत्तराखंड होगा डिजिटल, रिलायंस करेगा इंटरनेट और हॉस्पिटैलिटी क्षेत्र का विकास


यहां बता दें कि बड़े नेताओं और विचारकों की मूर्तियों को तोड़ने का सिलसिला त्रिपुरा में हुए चुनाव के बाद से शुरू हुआ था। वहां 25 सालों की वामपंथी सरकार के सत्ता से बाहर आने के बाद लेनिन की मूर्ति को गिरा दिया गया था। इसके बाद से कई राज्यों में महान लोगों की मूर्तियों को क्षतिग्रस्त करने का सिलसिला जारी रहा। इनमें पेरियार से लेकर भीमराव अंबेडकर, जवाहर लाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस और यहां तक महात्मा गांधी की मूर्तियां भी शामिल रहीं थीं।   

 

Todays Beets: