Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

नौजवानों को सेना में भर्ती के लिए प्रेरित करेगी सरकार, कुमाऊं-गढ़वाल मंडलों में खुलेंगे प्रशिक्षण केन्द्र 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नौजवानों को सेना में भर्ती के लिए प्रेरित करेगी सरकार, कुमाऊं-गढ़वाल मंडलों में खुलेंगे प्रशिक्षण केन्द्र 

देहरादून। राज्य सरकार नौजवानों को सेना और अर्द्धसैनिक बलों में भर्ती के लिए प्रेरित करने की पूरी कोशिश कर रही है। इसके लिए कुमाऊं और गढ़वाल दोनों मंडलों में प्रशिक्षण केंद्र खोले जाएंगे। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अपने आवास पर सेना के बंगुलरु सिलेक्शन सेंटर के कमांडेंट मेजर जनरल वीपीएस भाकुनी से मुलाकात के बाद यह जानकारी दी है। सेना के कमांडेंट का कहना है कि इन दिनों एनडीए और सीडीएस का परिणाम सिविल सेवा से भी कम है। सैनिक कल्याण विभाग, शिक्षा विभाग से समन्वय कर प्रशिक्षण कार्यशालाओं हेतु स्थायी केन्द्र के रूप में स्कूल या काॅलेज के भवन चयनित करेंगे जहां नियमित पठन-पाठन के साथ-साथ कार्यशालाओं का आयोजन भी किया जा सके।

कैसे भर्ती हों सेना में

गौरतलब है कि सेना में ज्यादा से ज्यादा नौजवान भर्ती हों इसके लिए उन्हें प्रशिक्षण दिया जाएगा। मेजर जनरल भाकुनी का कहना है कि सिविल सेवाओं के मुकाबले लगभग डेढ़ गुना अधिक अभ्यर्थी एनडीए और सीडीएस जैसी परीक्षाओं में आवेदन करते हैं लेकिन सेना में भर्ती के लिए जरूरी सभी जरूरतों को पूरा नहीं करने की वजह से सफलता की दर कम होती है। सेना में अधिकारी के पदों पर उनके चयन के लिए उन्हें पहले से तैयार किया जाने के लिए यह कदम उठाए जाने की जरूरत है। दोनों मंडलों में प्रशिक्षण केन्द्र खुलने से युवाओं के पर्सनैलिटी डेवलपमेंट और साक्षात्कार में पेश होने के तरीके के बारे में पता चलेगा। 

ये भी पढ़ें -बैकलाॅग भर्ती पर बेरोजगारों ने शुरू किया आंदोलन, सरकार की बढ़ सकती हैं मुश्किलें


सैनिक स्कूल खोलने की तैयारी

राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड हमेशा से वीरों की भूमि रही है यहां के युवाओं में सेना में भर्ती होकर देश की सेवा करने की स्वाभाविक प्रवृत्ति होती है। ऐसे में प्रशिक्षण केन्द्र खोलकर उनके सफल होने के मौके को बढ़ाया जा सकता है। इस केन्द्र में सिर्फ सैन्य सेवा ही नहीं बल्कि अन्य सरकारी नौकरियों के बारे में प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रथम चरण में कुमाऊं और गढ़वाल में प्रशिक्षण कार्याशालाएं(ट्रेनिंग वर्कशाॅप) ऐसे स्कूल-काॅलेज के भवनों में संचालित होगी जहां पर्याप्त अवस्थापना सुविधाएं होंगी। वहीं दूसरे चरण में 11वीं-12वीं के छात्र-छात्राओं के लिए राज्य सरकार द्वारा स्थायी मिलिट्री/सैनिक स्कूल खोलने पर भी विचार किया जा सकता है।

 

Todays Beets: