Thursday, November 22, 2018

Breaking News

   ऑस्ट्रेलिया के PM मॉरिशन बोले- भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था     ||   पश्चिम बंगालः सिलीगुड़ी की तीस्ता नहर में 4 जिंदा मोर्टार सेल बरामद     ||   मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः कोर्ट ने मंजू वर्मा को 1 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा     ||   करतारपुर साहिब कॉरिडोर को मंजूरी देने पर CM अमरिंदर ने PM मोदी को कहा- शुक्रिया     ||   करतारपुर कॉरिडोर पर मोदी सरकार की मंजूरी के बाद बोला PAK- जल्द देंगे गुड न्यूज     ||   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||

नीति घाटी में बनी कृत्रिम झील से निचले इलाके के डूबने का खतरा, यूसैक ने सरकार को दी जानकारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नीति घाटी में बनी कृत्रिम झील से निचले इलाके के डूबने का खतरा, यूसैक ने सरकार को दी जानकारी

चमोली। उत्तराखंड के चमोली में हुई तेज बारिश के बाद नीति घाटी ग्लेशियर के टूटने से कृत्रिम झील का निर्माण हो गया है। इस झील में लगातार पानी के जमा होने से पहाड़ के नीसे बसे गांवों में बाढ़ आने का खतरा मंडराने लगा है। झील बनने की पूरी रिपोर्ट उत्तराखंड अंतरिक्ष उपयोग केंद्र (यूसैक) ने राज्य के आपदा न्यूनीकरण केंद्र को दे दी है। यूसैक ने अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंप दी है और कहा कि पानी नहीं निकालने से काफी नुकसान हो सकता है। 

गौरतलब है कि वाडिया संस्थान ही ऐसी झीलों या ग्लेशियरों की नापजोख करता है। ऐसे में यूसैक की रिपोर्ट के बाद सरकार संस्थान से इसकी भी माप करने का अनुरोध करेगी। यहां बता दें कि केदारनाथ आपदा भी चौराबाड़ी में बनी बड़ी झील के टूटने के कारण ही आई थी। इस भीषण त्रासदी में साढ़े 4 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी और निचली घाटियों में भारी नुकसान हुआ था।

ये भी पढ़ें - नौकरी और घर गृहस्थी संभालने के बावजूद जौनसार बावर की ‘किरण’ यू-ट्यूब पर मचा रही धूम, लोकगीत क...

यहां गौर करने वाली बात है कि वैज्ञानिकों का मानना है बर्फ के पिघलने की वजह से कई बार पानी का प्रवाह रुक जाता है और झील का निर्माण हो जाता है। यूसैक निदेशक निदेशक डॉ. एमपीएस बिष्ट ने बताया कि रायकांडा और पश्चिमी कामेट ग्लेशियर में जहां पर यह झील बनी है, वहां से अलकनंदा की मुख्य सहायक नदी धौली गंगा निकलती है। उन्होंने बताया कि सबसे पहले साल 2001 में झील का निर्माण हुआ था। 


-वैज्ञानिकों का मानना है कि झील से संभावित खतरे को टालने के लिए उनका एक  दल तत्काल मौके पर जाए।

-ग्लेशियर टूटने से बचाए नहीं जा सकते लेकिन ऐसी घटनाओं से सचेत करने का तंत्र मुस्तैद किया जाना चाहिए।

-सरकार को चाहिए कि हिमालय से निकलने वाली नदियों के किनारे आबादी को बसने से रोके। 

Todays Beets: