Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

नीति घाटी में बनी कृत्रिम झील से निचले इलाके के डूबने का खतरा, यूसैक ने सरकार को दी जानकारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नीति घाटी में बनी कृत्रिम झील से निचले इलाके के डूबने का खतरा, यूसैक ने सरकार को दी जानकारी

चमोली। उत्तराखंड के चमोली में हुई तेज बारिश के बाद नीति घाटी ग्लेशियर के टूटने से कृत्रिम झील का निर्माण हो गया है। इस झील में लगातार पानी के जमा होने से पहाड़ के नीसे बसे गांवों में बाढ़ आने का खतरा मंडराने लगा है। झील बनने की पूरी रिपोर्ट उत्तराखंड अंतरिक्ष उपयोग केंद्र (यूसैक) ने राज्य के आपदा न्यूनीकरण केंद्र को दे दी है। यूसैक ने अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंप दी है और कहा कि पानी नहीं निकालने से काफी नुकसान हो सकता है। 

गौरतलब है कि वाडिया संस्थान ही ऐसी झीलों या ग्लेशियरों की नापजोख करता है। ऐसे में यूसैक की रिपोर्ट के बाद सरकार संस्थान से इसकी भी माप करने का अनुरोध करेगी। यहां बता दें कि केदारनाथ आपदा भी चौराबाड़ी में बनी बड़ी झील के टूटने के कारण ही आई थी। इस भीषण त्रासदी में साढ़े 4 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी और निचली घाटियों में भारी नुकसान हुआ था।

ये भी पढ़ें - नौकरी और घर गृहस्थी संभालने के बावजूद जौनसार बावर की ‘किरण’ यू-ट्यूब पर मचा रही धूम, लोकगीत क...

यहां गौर करने वाली बात है कि वैज्ञानिकों का मानना है बर्फ के पिघलने की वजह से कई बार पानी का प्रवाह रुक जाता है और झील का निर्माण हो जाता है। यूसैक निदेशक निदेशक डॉ. एमपीएस बिष्ट ने बताया कि रायकांडा और पश्चिमी कामेट ग्लेशियर में जहां पर यह झील बनी है, वहां से अलकनंदा की मुख्य सहायक नदी धौली गंगा निकलती है। उन्होंने बताया कि सबसे पहले साल 2001 में झील का निर्माण हुआ था। 


-वैज्ञानिकों का मानना है कि झील से संभावित खतरे को टालने के लिए उनका एक  दल तत्काल मौके पर जाए।

-ग्लेशियर टूटने से बचाए नहीं जा सकते लेकिन ऐसी घटनाओं से सचेत करने का तंत्र मुस्तैद किया जाना चाहिए।

-सरकार को चाहिए कि हिमालय से निकलने वाली नदियों के किनारे आबादी को बसने से रोके। 

Todays Beets: