Monday, May 27, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

उत्तराखंड विधानसभा - बजट सत्र के 8वें दिन भी हंगामा, स्टिंग की CBI जांच करवाने की मांग, विपक्ष बोला- स्टिंग की सीडी हम देंगे

अंग्वाल संवाददाता
उत्तराखंड विधानसभा - बजट सत्र के 8वें दिन भी हंगामा, स्टिंग की CBI जांच करवाने की मांग, विपक्ष बोला- स्टिंग की सीडी हम देंगे

देहरादून । उत्तराखंड विधानसभा में बजट सत्र के 8वें दिन विपक्षी दलों ने सदन में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर आक्रामक रवैया अख्तियार किया। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर नियम 310 के तहत चर्चा करने की मांग । इसको लेकर सदन में जोरदार हंगामा हुआ। इस दौरान कई विधायक वेल में पहुंच गए और नियम 310 के तहत चर्चा करने की  मांग करने लगे। वहीं कांग्रेसी विधायक हाल ही में चर्चा में रहे स्टिंग की सीबीआई से जांच करवाने की मांग कर रहे हैं। इस दौरान कांग्रेस विधायक हरीश धामी ने कहा, ‘सरकार जांच करवाए, स्टिंग की सीडी हम देंगे। 

विपक्ष में हंगामा कर रहे विपक्षी दलों के नेताओं ने पिछले दिनों एक स्टिंग की सीबीआई जांच करवाने की मांग करते हुए कहा कि पूर्व की कांग्रेस सरकार के दौरान जब पूर्व सीएम हरीश रावत पर आरोप लगे थे तो सीबीआई जांच हुई थी। ऐसे में अब सरकार सीबीआई जांच करवाए जाने की मांग क्यों नहीं स्वीकार कर रही है। कांग्रेसी विधायकों की मांग है कि हाल में जो स्टिंग सामने आया है, उसे लेकर सरकार ने क्या कदम उठाया है इसके बारे में बताया जाए। 


इस हंगामे के दौरान विधानसभा कुछ देर तक बाधित रही। वहीं विपक्षी दलों के सदस्यों की इस दौरान संसदीय कार्य मंत्री प्रकाश पंत के बीच तीखी बहस हुई। विधानसभा अध्यक्ष ने विपक्ष की भ्रष्टाचार पर नियम 310 के तहत की मांग को ठुकरा दिया और नियम 58 के तहत सुनने पर सहमति दी। इसके बाद जाकर विपक्षी दलों के नेता शांत हुए। 

Todays Beets: