Thursday, April 26, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

उपनल के जरिए होने वाली भर्ती में बड़ा गड़बड़झाला, विधानसभाध्यक्ष के बेटे को नियम विरुद्ध दी गई नौकरी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उपनल के जरिए होने वाली भर्ती में बड़ा गड़बड़झाला, विधानसभाध्यक्ष के बेटे को नियम विरुद्ध दी गई नौकरी

देहरादून। उत्तराखंड के हर विभाग में एक के बाद एक गड़बड़झाले का खुलासा हो रहा है। इसमें कई बड़े और रसूखदारों के नाम भी सामने आए हैं। अब एक नए गड़बड़झाले में पूर्व सैनिकों के आश्रितों को नौकरी देने के लिए बनाई गई संस्था उत्तराखंड पूर्व सैनिक कल्याण निगम लिमिटेड (उपनल) के द्वारा विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल के बेटे पीयूष को नियम विरुद्ध तरीके से नौकरी देने का मामला सामने आया है। बता दें कि पीयूष अग्रवाल को जल संस्थान में सहायक अभियंता के पद पर तैनाती मिली है। 

गौरतलब है कि जब उपनल द्वारा गैरसैनिक परिवारों से जुड़े लोगों की नियुक्ति पर रोक लगा हुआ है इसके बावजूद ऐसा होने पर कई सवाल उठने लगे हैं। पहला तो यह कि ऐसा कैसे संभव हुआ? नियमों की अनदेखी क्यों की गई? फिलहाल इन सवालों का जवाब देने के लिए कोई तैयार नहीं है। बताया जा रहा है कि मामला हाई प्रोफाइल होने के चलते उपनल और जल संस्थान के अधिकारी कोई भी जानकारी देने से इंकार कर रहे हैं। 

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड कैबिनेट ने आबकारी नीति में किया संशोधन, अब दुकानवार ही होगी नीलामी

आपको बता दें कि पीयूष अग्रवाल की जल संस्थान के पित्थूवाला जोन में सहायक अभियंता के पद पर तैनाती के लिए पित्थूवाला जोन के अधिशासी अभियंता नमित रमोला की ओर से बीती 28 फरवरी को आदेश जारी किए गए थे। इस आदेश में पीयूष का कार्यकाल 31 मार्च 2019 तक होने की बात भी लिखी गई है। बता दें कि कांग्रेस के शासनकाल में उपनल में मनमाने तरीके से भर्तियां की गई थी। 2016 में मामला सामने आने के बाद सरकारी आदेश जारी की गैर सैनिक पृष्ठभूमि से ताल्लुक रखने वाले लोगों की उपनल के माध्यम से भर्ती पर रोक लगा दी गई थी। 


खबरों के अनुसार बेहद गुपचुप तरीके से विधानसभा अध्यक्ष के बेटे की उपनल के जरिए जल संस्थान में आउटसोर्स भर्ती की गई है। इनके साथ जल संस्थान देवप्रयाग में सहायक अभियंता के पद पर संदीप कुमार और रायपुर में सुमित कुमार को नियुक्त किया गया है। इन लोगों का भी सेना से कोई ताल्लुक नहीं है, ऐसा भी कहा जा रहा है कि इन लोगों की नियुक्ति के लिए न तो कोई साक्षात्कार हुए और न ही वरीयता का ख्याल रखा गया। बड़ी बात यह भी है कि इसकी कोई सूचना भी प्रकाशित नहीं की गई। इस मामले में विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल ने कहा कि उनके बेटे ने इंजीनियरिंग कर ली थी और जल संस्थान में जरूरत थी इस वजह से भर्ती कर ली गई। वहीं सैनिक कल्याण बोर्ड का कहना है कि यदि कोई भर्ती नियमों से हटकर की गई है, तो उसकी जांच करवाकर कार्रवाई करेंगे।

 

Todays Beets: