Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

सिडकुल में सरकारी पैसों का बड़ा गड़बड़झाला, विशेष आॅडिट में हुआ खुलासा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सिडकुल में सरकारी पैसों का बड़ा गड़बड़झाला, विशेष आॅडिट में हुआ खुलासा

देहरादून। हरिद्वार के सिडकुल में बड़े पैमाने पर गड़बड़झाले का खुलासा हुआ है। सरकार द्वारा कराए गए विशेष आॅडिट में इस बात का पता चला है। रिपोर्ट के मुताबिक विकास कार्यों का अधिक भुगतान, अनियमितताओं और बिना जरुरी वाले  कार्यों में अरबों रुपये लुटा दिए गए इसमें  सिडकुल केअफसरों के अलावा यहां काम करने वाली कार्यदायी संस्था विशेष तौर पर यूपीआरएनएन ने भी जमकर मलाई काटी है। अब  रिपोर्ट शासन में उच्च स्तर पर दी गई है, इस पर आगे की कार्रवाई का निर्णय विधानसभा सत्र के ठीक पहले लिया जाएगा।

बड़े पैमाने पर अनियमितता

गौरतलब है कि उत्तराखंड राज्य औद्योगिक विकास निगम लि. (सिडकुल) में सरकारी धन की जमकर लूट मचाई गई। सिडकुल में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत के निर्देश पर कराए गए आॅडिट मंे इस बात का खुलासा हुआ कि सितारगंज, सेलाकुई, काशीपुर समेत राज्य के तमाम औद्योगिक क्षेत्रों के बाहर और भीतर अरबों रुपये के विवादित कार्यों को मंजूरी दी गई। मामले के सीएम के संज्ञान मंे आने के बाद इसकी आॅडिट कराई गई। आॅडिट रिपोर्ट में अनियमितताओं और गड़बड़ी से जुड़े कुल 46 मामलों में घपलों की बात सामने आई है।


ये भी पढ़ें - राज्य सरकार गरीब छात्रों को मुफ्त में देगी एनडीए और सीडीएस की कोचिंग, टैलेंट हंट के जरिए चुने...

सुपरटेक पर भी शिकंजा

यहां बता दें कि निर्माण कार्य के लिए करोड़ों का ठेका जारी किया गया उनमें काफी घटिया स्तर के सामानों का इस्तेमाल किया गया। आॅडिट रिपोर्ट आने के बाद वित्त सचिव ने बैठक बुलाई लेकिन सिडकुल में सिविल कार्य को देखने वाले महाप्रबंधक संजय रावत  और पंकज गुप्ता मेडिकल अवकाश पर चले गए हैं। सिडकुल के अलावा दूसरे विभागों में भी धन का बड़े पैमाने पर हेराफेरी की गई। यहां गौर करने वाली बात ये भी है कि पंतनगर और हरिद्वार समेत अन्य जगहों पर सर्किल रेट से बेहद कम दरों पर सुपरटेक बिल्डर्स को भूमि आवंटित करने के मामले में विजिलेस जांच के आदेश जारी किए गए हैं। बता दें कि सुपरटेक को बेहद कम कीमतों पर जमीनें दी गईं लेकिन उसने आज तक भी जमीन का पैसा सिडकुल को नहीं दिया है। 

Todays Beets: