Friday, October 20, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

बेसिक शिक्षकों के सामने असमंजस की स्थिति, डीएलएड को लेकर विभाग के खिलाफ खोला मोर्चा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बेसिक शिक्षकों के सामने असमंजस की स्थिति, डीएलएड को लेकर विभाग के खिलाफ खोला मोर्चा

देहरादून। राज्य का शिक्षा विभाग इन दिनों खासा चर्चा में है। डीएलएड कोर्स को लेकर शिक्षकों ने विभाग के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया है। स्कूलों में शारीरिक शिक्षा के बजाय सामान्य विषय पढ़ाने वाले सीपीएड,बीपीएड और डीपीएड कर चुके शिक्षकों को सरकार ने खुद को प्रशिक्षित श्रेणी में रखने को कहा था जबकि केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने ऐसे शिक्षकों को अप्रशिक्षित मानते हुए दो साल का डीएलएड कोर्स करने के निर्देश दिए थे। ऐसे में इन शिक्षकों के सामने एक असमंजस की स्थिति पैद हो गई है। सीपीएड-डीपीएड-बीपीएड शिक्षक महासंघ ने रेसकोर्स स्थित शिक्षक भवन में बैठक कर इस मुद्दे पर चर्चा की। शिक्षक महासंघ के महेंद्र मैठानी ने कहा कि वक्त सीपीएड-डीपीएड-बीपीएड शिक्षकों को नियुक्ति के समय शिक्षा विभाग ने खुद विशिष्ट बीटीसी का प्रशिक्षण दिया था। इसके बावजूद अब उन्हें अप्रशिक्षित शिक्षक माना जा रहा है। ऐसे में शिक्षकों में गुस्सा होना लाजमी है। 

 

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के समूह ‘ग’ की परीक्षा के लिए नियमावली में हुआ बदलाव, अब इन व...


 

Todays Beets: