Sunday, July 22, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

बीएड टीईटी कर चुके नौजवानों को मिल सकता है प्राथमिक शिक्षक बनने का मौका, केन्द्र से अनुमति मिलने का इंतजार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बीएड टीईटी कर चुके नौजवानों को मिल सकता है प्राथमिक शिक्षक बनने का मौका, केन्द्र से अनुमति मिलने का इंतजार

देहरादून। उत्तराखंड में बीएड टीईटी कर चुके नौजवानों के लिए अच्छी खबर है। उन्हें जल्द ही प्राथमिक शिक्षक बनने का मौका मिल सकता है। राज्य सरकार ने प्रदेश में डीएलएड प्रशिक्षित शिक्षकों की कमी को देखते हुए केन्द्र सरकार ने बीएड टीईटी कर चुके नौजवानों की भर्ती के लिए एक साल की छूट मांगी थी। केन्द्र की तरफ से इससे संबंधित कुछ जानकारियां मांगी गई है। उम्मीद की जा रही है कि केंद्र की ओर से जल्द ही अनुमति दी जा सकती है। 

गौरतलब है कि केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रलय (एमएचआरडी) के अनुसचिव अनिल गैरोला ने शिक्षा सचिव को पत्र भेजते हुए कुछ जानकारियां मांगी है। उन्होंने राज्य के शिक्षक प्रशिक्षण संस्थानों की क्षमता, सालाना शिक्षक भर्ती की आवश्यकता की जानकारी मांगी है। 

ये भी पढ़ें - कुलगाम में आतंकियों से लोहा लेते हुए घायल हुआ हर्रावाला का सपूत, दिल्ली में चल रहा इलाज, सीएम...


खबरों के अनुसार फिलहाल बैकलॉग श्रेणी में 550 के करीब पद खाली हैं और हाईकोर्ट ने हाल ही में इन पदों को प्राथमिकता से भरने के आदेश दिए हैं लेकिन इसमें शैक्षिक योग्यता का पेंच आ रहा है। नए मानकों के अनुसार प्राथमिक शिक्षक के पद के लिए डीएलएड और बीएलएड होना अनिवार्य है। राज्य ने केंद्र सरकार से डीएलएड-बीएलएड से 1 साल की छूट मांगी है। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि राज्य में शिक्षा के स्तर को देखते हुए केन्द्र सरकार की तरफ से इसकी अनुमति दी जा सकती है।  

Todays Beets: