Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

बीएड टीईटी कर चुके नौजवानों को मिल सकता है प्राथमिक शिक्षक बनने का मौका, केन्द्र से अनुमति मिलने का इंतजार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बीएड टीईटी कर चुके नौजवानों को मिल सकता है प्राथमिक शिक्षक बनने का मौका, केन्द्र से अनुमति मिलने का इंतजार

देहरादून। उत्तराखंड में बीएड टीईटी कर चुके नौजवानों के लिए अच्छी खबर है। उन्हें जल्द ही प्राथमिक शिक्षक बनने का मौका मिल सकता है। राज्य सरकार ने प्रदेश में डीएलएड प्रशिक्षित शिक्षकों की कमी को देखते हुए केन्द्र सरकार ने बीएड टीईटी कर चुके नौजवानों की भर्ती के लिए एक साल की छूट मांगी थी। केन्द्र की तरफ से इससे संबंधित कुछ जानकारियां मांगी गई है। उम्मीद की जा रही है कि केंद्र की ओर से जल्द ही अनुमति दी जा सकती है। 

गौरतलब है कि केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रलय (एमएचआरडी) के अनुसचिव अनिल गैरोला ने शिक्षा सचिव को पत्र भेजते हुए कुछ जानकारियां मांगी है। उन्होंने राज्य के शिक्षक प्रशिक्षण संस्थानों की क्षमता, सालाना शिक्षक भर्ती की आवश्यकता की जानकारी मांगी है। 

ये भी पढ़ें - कुलगाम में आतंकियों से लोहा लेते हुए घायल हुआ हर्रावाला का सपूत, दिल्ली में चल रहा इलाज, सीएम...


खबरों के अनुसार फिलहाल बैकलॉग श्रेणी में 550 के करीब पद खाली हैं और हाईकोर्ट ने हाल ही में इन पदों को प्राथमिकता से भरने के आदेश दिए हैं लेकिन इसमें शैक्षिक योग्यता का पेंच आ रहा है। नए मानकों के अनुसार प्राथमिक शिक्षक के पद के लिए डीएलएड और बीएलएड होना अनिवार्य है। राज्य ने केंद्र सरकार से डीएलएड-बीएलएड से 1 साल की छूट मांगी है। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि राज्य में शिक्षा के स्तर को देखते हुए केन्द्र सरकार की तरफ से इसकी अनुमति दी जा सकती है।  

Todays Beets: