Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

पीसीएस परीक्षा की तैयारी करने वालों को ‘सी-सैट’ करना होगा क्वालिफाई, सरकार की मंजूरी का इंतजार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पीसीएस परीक्षा की तैयारी करने वालों को ‘सी-सैट’ करना होगा क्वालिफाई, सरकार की मंजूरी का इंतजार

देहरादून। अगर आप उत्तराखंड के रहने वाले और पीसीएस परीक्षा की तैयारी में जुटे हैं तो सावधान हो जाएं। अब इसमें बदलाव किया जा रहा है। उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने लंबे समय से चली आ रही मांग को मानते हुए सिविल सर्विसेज एप्टीट्यूड टेस्ट (सी-सैट) क्वालिफाइंग करने का प्रस्ताव सरकार को भेज दिया है। अब सरकार को इस पर फैसला लेना है। इससे पहले सीसैट लागू करने वाला संघ लोक सेवा आयोग(यूपीएससी) खुद इसे क्वालिफाइंग कर चुका है। बता दें कि ऊधमसिंह नगर के रहने वाले इकबाल अहमद ने सूचना के अधिकार अधिनियम के तहत उत्तराखंड लोक सेवा आयोग से सूचना मांगी थी। इसमें पूछा गया था कि क्या सी-सैट को क्वालिफाइंग कर दिया गया है?

गौरतलब है कि आयोग की तरफ से दिए गए जवाब में साफ कर दिया है कि वह इसे क्वालिफाइंग करने का प्रस्ताव शासन को भेज चुके हैं। अब गेंद सरकार के पाले में है जैसे ही वहां से हरी झंडी मिलेगी इस प्रस्ताव को पास कर दिया जाएगा।  बता दें कि एक लंबे समय से प्रदेश में सी-सैट को क्वालिफाइंग करने की मांग की जा रही थी। 

ये भी पढ़ें - प्रदेश में मुफ्त शिक्षा के नाम पर बड़ा ‘खेल’, एनसीईआरटी की किताबों के लिए जेब से देने होंगे पैसे


आपको बता दें कि साल 2011 में यूपीएससी ने सी-सैट लागू किया था। इसे शामिल करने से 400 अंकों का जनरल स्टडीज और 200 अंकों का सी-सैट होता है। हिंदी माध्यम के छात्र अंग्रेजी कांप्रिहेंशन के सवालों में फंस जाते थे क्योंकि इन सवालों का हिंदी अनुवाद काफी जटिल रहता था। इसे समझने में काफी समय गुजर जाने के कारण हिंदी मीडियम के छात्र पिछड़ जाते थे। सी-सैट के लागू होने के बाद भी दो ही पेपर होते थे लेकिन पहला भाग ऑप्शनल नहीं रहा था। इसमें ताजा घटनाक्रम, इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र, विज्ञान के अलावा कई अन्य विषयों को भी शामिल कर दिया गया था। इसको लेकर पूरे देश में युवाओं ने काफी आंदोलन भी किया था। उनका कहना था कि इससे हिंदी माध्यम वाले छात्रों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। अब यूपीएससी ने इसे क्वालिफाइंग कर दिया तो राज्य में भी इसे क्वालिफाइंग करने की मांग की जा रही है। अब यूपीएससी ने सी-सैट को क्वालिफाइंग कर दिया था इसके बाद देश के ज्यादातर राज्य सी-सैट को क्वालिफाइंग कर चुके हैं। उत्तराखंड में अभी तक आयोग इस बारे में कोई निर्णय नहीं ले पाया है जबकि यहां भी नौजवान पिछले 2 सालों से सीसैट को क्वालिफाइंग करने की मांग कर रहे हैं।  

 

Todays Beets: