Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

राज्य की लचर शिक्षा व्यवस्था के लिए विभाग जिम्मेदार, कैग ने सर्वशिक्षा के अमल पर उठाए सवाल 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्य की लचर शिक्षा व्यवस्था के लिए विभाग जिम्मेदार, कैग ने सर्वशिक्षा के अमल पर उठाए सवाल 

देहरादून। राज्य में शिक्षा की व्यवस्था को सुधारने में विभागीय लापरवाही की मामला सामने आया है। शिक्षा का स्तर ऊपर उठाने के लिए केन्द्र सरकार की तरफ से मदद में कोई कमी नहीं की जा रही है। सर्वशिक्षा अभियान के तहत केन्द्र से करोड़ों रुपये का अनुदान दिया। ये पैसे या तो बैंक में जमा रहे या फिर ग्राम विकास समिति के खातों में। ब्लॉक और संकुल संसाधन व्यक्ति (बीआरपी-सीआरपी) की नियुक्ति में जानबूझकर की गई देरी की वजह से भी करोड़ों रुपये इस्तेमाल ही नहीं हो पाए। नियंत्रक महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है।

अधिकारियों का सुस्त रवैया

गौरतलब है कि राज्य की शिक्षा व्यवस्था की हालत किसी से छिपी नहीं है। इसमें सुधार लाने के लिए उत्तराखंड सरकार को केन्द्र से सर्वशिक्षा अभियान (एसएसए) के तहत  वर्ष 2010-11 से 2015-16 तक की अवधि तक करोड़ों रुपये की मदद दी लेकिन विभागीय अधिकारियों के सुस्त रवैये के चलते इसका उपयोग नहीं हुआ। कैग ने अपनी रिपोर्ट में नाराजगी जताते हुए साफ लिखा है कि एसएसए के जिम्मेदार अधिकारियों का आंतरिक नियंत्रण बेहद कमजोर रहा है। अब राष्ट्रीय स्तर पर एसएसए के सर्वेक्षण में पाई गई कमियों पर कैग ने सभी राज्यों से उनका पक्ष मांगा है। 


ये भी पढ़ें - मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना का पूरा खर्च उठाएगी सरकार, बीमा कंपनी पर भी होगी कड़ी कार्रवाई

विभाग पर सवाल

आपको बता दें कि कैग की रिपोर्ट के बाद एसएसए के आॅफिसर सही तरीके से स्पष्टीकरण नहीं दे रहे हैं।  कुछ समय पहले उपसचिव-शिक्षा दिनेश चंद्र जोशी ने तत्काल रिपोर्ट भेजने के निर्देश देते हुए पत्र भी भेजा है। यहां गौर करने वाली बात है कि कैग ने राज्य में चलने वाले अवैध स्कूलों को लेकर भी शिक्षा विभाग के रवैये पर सवाल खड़े किए हैं।  

Todays Beets: