Tuesday, November 21, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

प्रदेश में 17 नवंबर को मनाया जाएगा शौर्य दिवस, 1962 के युद्धबंदियों को किया जाएगा सम्मानित

अंग्वाल न्यूज डेस्क

प्रदेश में 17 नवंबर को मनाया जाएगा शौर्य दिवस, 1962 के युद्धबंदियों को किया जाएगा सम्मानित

देहरादून। चीन के साथ साल 1962 में हुई लड़ाई में अहम भूमिका निभाने वाले गढ़वाल रायफल के युद्धबंदियों को शुक्रवार को होने वाले कार्यक्रम में सम्मानित किया जाएगा। बता दें कि चीन के साथ हुई लड़ाई में इन सैनिकों ने अदम्य साहस का परिचय देते हुए विरोधियों से लोहा लिया था, इनमें से कई शहीद हो गए थे और कई को युद्धबंदी बना लिया गया था जिसे बाद में छोड़ दिया गया था। यहां बता दें कि 17 नवंबर को गढ़ी कैंट स्थित डीएसआई में गढ़वाल रायफल शौर्य दिवस (नूरानांग) मना रहा है जिसमें इन सैनिकों को सम्मानित किया जाएगा। 

गढ़वालियों की गाथा

गौरतलब है कि भारत-चीन युद्ध में गढ़वाल रायफल्स की चैथी बटालियन के जवानों ने अदम्य साहस का परिचय देते हुए चीन सैनिकों से लड़ाई लड़ी, इस युद्ध में कुछ जवान शहीद हुए थे और इनमें से कई जवान युद्धबंदी भी बनाए गए थे, जिन्हें बाद में छोड़ दिया गया था। सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर आरएस रावत ने बताया कि भारत का इतिहास उत्तराखंड के वीरों की वीरगाथा से भरी पड़ी है। कठिन परिस्थितियों में संघर्ष करने की शक्ति गढ़वालियों की विशेषता रही है।  यह वजह है कि इस बटालियन को 2 महावीर चक्र, 7 वीर च्रक सहित अन्य कई सम्मानों से नवाजा जा चुका है। 

ये भी पढ़ें - रेलवे ने दून स्टेशन का दर्जा बढ़ाया, मिला पहला स्टेशन निदेशक, यात्रियों की सुविधाओं में होगा इजाफा


सभी जीवित सैनिकों को आमंत्रण

आपको बता दें कि सैनिकों के सम्मान समारोह का आयोजन सुबह 11 बजे से किया जाएगा। ब्रिगेडियर आरएस रावत ने बताया कि शौर्य दिवस में श्रद्धांजलि देने के साथ ही कई अन्य कार्यक्रम भी होंगे। शौर्य दिवस के मौके पर अरुणाचल की सीमा पर चीन को खदेड़ने वाले 4 गढ़वाल रायफल्स के जसवंत सिंह को याद किया जाता है। 1962 की जंग में उनकी वीरता के लिए जसवंत सिंह को मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्मानित किया गया था। बता दें कि नूरानांग की पहाड़ियों पर हुई लड़ाई में कुल 162 जवानों ने अपनी शहादत दी थी और इसमें शामिल लड़ाई के दर्जनों सैनिक आज भी जिंदा है। शौर्य दिवस के मौके पर इन सभी को आमंत्रित किया गया है।

 

Todays Beets: