Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुरू होने से पहले यात्रियों को केन्द्र का तोहफा, अब आसान हो जाएगा सफर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुरू होने से पहले यात्रियों को केन्द्र का तोहफा, अब आसान हो जाएगा सफर

देहरादून। कैलाश मानसरोवर की यात्रा को आसान बनाने के लिए सड़क निर्माण का काम तेजी से किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ विदेश मंत्रालय ने यात्रियों को एक बड़ा तोहफा दिया है। मंत्रालय ने कहा कि यात्रा शुरू होने से पहले यदि लखनपुर और नजंग के बीच क्षतिग्रस्त सड़क ठीक नहीं हुई तो यात्रियों को धारचूला से हेलीकॉप्टर के जरिए बूंदी तक ले जाया जाएगा। बता दें कि इस बार 18 दल कैलाश मानसरोवर की यात्रा करेंगे और पहला दल 12 जून को दिल्ली से अल्मोड़ा पहुंचेगा।

गौरतलब है कि कैलाश मानसरोवर यात्रा की जिम्मेदारी कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) को दी गई है। निगम के महाप्रबंधक टीएस मर्तोलिया ने बताया कि यदि कैलाश मानसरोवर यात्रा शुरू होने से पहले लखनपुर और नजंग के बीच क्षतिग्रस्त सड़क ठीक नहीं हुई तो यात्रियों को पिथौरागढ़ या धारचूला से हेलीकॉप्टर के जरिये बूंदी तक ले जाने का विकल्प विदेश मंत्रालय ने खुला रखा है। उन्होंने बताया कि यदि यात्रा शुरू होने से पहले नजंग तक सड़क बन जाती है तो यात्रियों को नजंग तक वाहनों से ले जाया जाएगा।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में कार्मिक, शिक्षक और आउटसोर्स संयुक्त मोर्चे ने सरकार को दी चेतावनी, कहा-हड़ताल नह...

 


यहां बता दें कि फिलहाल यात्रियों को चीन सीमा में पड़ने वाले लिपुपास तक करीब 102 किलोमीटर का सफर पैदल तय करना पड़ता है। हालांकि धारचूला से लखनपुर तक 45 किलोमीटर सड़क का निर्माण हो गया है इससे 10 किलोमीटर आगे बूंदी पड़ता है जहां केएमवीएन का गेस्ट हाउस है। गौर करने वाली बात है कि चीन ने लिपुपास से भी आगे तक सड़क का निर्माण कर लिया है और वहां यात्रियों को वाहनों से ले जाया जाता है। केएमवीएन के महाप्रबंधक टीएस मर्तोलिया ने बताया कि भारत की तरफ से कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाने वाले यात्रियों के रात्रि विश्राम के लिए होम स्टे योजना के तहत नाभिढांग इलाके में मकान तैयार कर लिए गए हैं।   

Todays Beets: