Thursday, May 24, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुरू होने से पहले यात्रियों को केन्द्र का तोहफा, अब आसान हो जाएगा सफर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुरू होने से पहले यात्रियों को केन्द्र का तोहफा, अब आसान हो जाएगा सफर

देहरादून। कैलाश मानसरोवर की यात्रा को आसान बनाने के लिए सड़क निर्माण का काम तेजी से किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ विदेश मंत्रालय ने यात्रियों को एक बड़ा तोहफा दिया है। मंत्रालय ने कहा कि यात्रा शुरू होने से पहले यदि लखनपुर और नजंग के बीच क्षतिग्रस्त सड़क ठीक नहीं हुई तो यात्रियों को धारचूला से हेलीकॉप्टर के जरिए बूंदी तक ले जाया जाएगा। बता दें कि इस बार 18 दल कैलाश मानसरोवर की यात्रा करेंगे और पहला दल 12 जून को दिल्ली से अल्मोड़ा पहुंचेगा।

गौरतलब है कि कैलाश मानसरोवर यात्रा की जिम्मेदारी कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) को दी गई है। निगम के महाप्रबंधक टीएस मर्तोलिया ने बताया कि यदि कैलाश मानसरोवर यात्रा शुरू होने से पहले लखनपुर और नजंग के बीच क्षतिग्रस्त सड़क ठीक नहीं हुई तो यात्रियों को पिथौरागढ़ या धारचूला से हेलीकॉप्टर के जरिये बूंदी तक ले जाने का विकल्प विदेश मंत्रालय ने खुला रखा है। उन्होंने बताया कि यदि यात्रा शुरू होने से पहले नजंग तक सड़क बन जाती है तो यात्रियों को नजंग तक वाहनों से ले जाया जाएगा।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में कार्मिक, शिक्षक और आउटसोर्स संयुक्त मोर्चे ने सरकार को दी चेतावनी, कहा-हड़ताल नह...

 


यहां बता दें कि फिलहाल यात्रियों को चीन सीमा में पड़ने वाले लिपुपास तक करीब 102 किलोमीटर का सफर पैदल तय करना पड़ता है। हालांकि धारचूला से लखनपुर तक 45 किलोमीटर सड़क का निर्माण हो गया है इससे 10 किलोमीटर आगे बूंदी पड़ता है जहां केएमवीएन का गेस्ट हाउस है। गौर करने वाली बात है कि चीन ने लिपुपास से भी आगे तक सड़क का निर्माण कर लिया है और वहां यात्रियों को वाहनों से ले जाया जाता है। केएमवीएन के महाप्रबंधक टीएस मर्तोलिया ने बताया कि भारत की तरफ से कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाने वाले यात्रियों के रात्रि विश्राम के लिए होम स्टे योजना के तहत नाभिढांग इलाके में मकान तैयार कर लिए गए हैं।   

Todays Beets: