Sunday, July 22, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुरू होने से पहले यात्रियों को केन्द्र का तोहफा, अब आसान हो जाएगा सफर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुरू होने से पहले यात्रियों को केन्द्र का तोहफा, अब आसान हो जाएगा सफर

देहरादून। कैलाश मानसरोवर की यात्रा को आसान बनाने के लिए सड़क निर्माण का काम तेजी से किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ विदेश मंत्रालय ने यात्रियों को एक बड़ा तोहफा दिया है। मंत्रालय ने कहा कि यात्रा शुरू होने से पहले यदि लखनपुर और नजंग के बीच क्षतिग्रस्त सड़क ठीक नहीं हुई तो यात्रियों को धारचूला से हेलीकॉप्टर के जरिए बूंदी तक ले जाया जाएगा। बता दें कि इस बार 18 दल कैलाश मानसरोवर की यात्रा करेंगे और पहला दल 12 जून को दिल्ली से अल्मोड़ा पहुंचेगा।

गौरतलब है कि कैलाश मानसरोवर यात्रा की जिम्मेदारी कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) को दी गई है। निगम के महाप्रबंधक टीएस मर्तोलिया ने बताया कि यदि कैलाश मानसरोवर यात्रा शुरू होने से पहले लखनपुर और नजंग के बीच क्षतिग्रस्त सड़क ठीक नहीं हुई तो यात्रियों को पिथौरागढ़ या धारचूला से हेलीकॉप्टर के जरिये बूंदी तक ले जाने का विकल्प विदेश मंत्रालय ने खुला रखा है। उन्होंने बताया कि यदि यात्रा शुरू होने से पहले नजंग तक सड़क बन जाती है तो यात्रियों को नजंग तक वाहनों से ले जाया जाएगा।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में कार्मिक, शिक्षक और आउटसोर्स संयुक्त मोर्चे ने सरकार को दी चेतावनी, कहा-हड़ताल नह...

 


यहां बता दें कि फिलहाल यात्रियों को चीन सीमा में पड़ने वाले लिपुपास तक करीब 102 किलोमीटर का सफर पैदल तय करना पड़ता है। हालांकि धारचूला से लखनपुर तक 45 किलोमीटर सड़क का निर्माण हो गया है इससे 10 किलोमीटर आगे बूंदी पड़ता है जहां केएमवीएन का गेस्ट हाउस है। गौर करने वाली बात है कि चीन ने लिपुपास से भी आगे तक सड़क का निर्माण कर लिया है और वहां यात्रियों को वाहनों से ले जाया जाता है। केएमवीएन के महाप्रबंधक टीएस मर्तोलिया ने बताया कि भारत की तरफ से कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाने वाले यात्रियों के रात्रि विश्राम के लिए होम स्टे योजना के तहत नाभिढांग इलाके में मकान तैयार कर लिए गए हैं।   

Todays Beets: