Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुरू होने से पहले यात्रियों को केन्द्र का तोहफा, अब आसान हो जाएगा सफर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुरू होने से पहले यात्रियों को केन्द्र का तोहफा, अब आसान हो जाएगा सफर

देहरादून। कैलाश मानसरोवर की यात्रा को आसान बनाने के लिए सड़क निर्माण का काम तेजी से किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ विदेश मंत्रालय ने यात्रियों को एक बड़ा तोहफा दिया है। मंत्रालय ने कहा कि यात्रा शुरू होने से पहले यदि लखनपुर और नजंग के बीच क्षतिग्रस्त सड़क ठीक नहीं हुई तो यात्रियों को धारचूला से हेलीकॉप्टर के जरिए बूंदी तक ले जाया जाएगा। बता दें कि इस बार 18 दल कैलाश मानसरोवर की यात्रा करेंगे और पहला दल 12 जून को दिल्ली से अल्मोड़ा पहुंचेगा।

गौरतलब है कि कैलाश मानसरोवर यात्रा की जिम्मेदारी कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) को दी गई है। निगम के महाप्रबंधक टीएस मर्तोलिया ने बताया कि यदि कैलाश मानसरोवर यात्रा शुरू होने से पहले लखनपुर और नजंग के बीच क्षतिग्रस्त सड़क ठीक नहीं हुई तो यात्रियों को पिथौरागढ़ या धारचूला से हेलीकॉप्टर के जरिये बूंदी तक ले जाने का विकल्प विदेश मंत्रालय ने खुला रखा है। उन्होंने बताया कि यदि यात्रा शुरू होने से पहले नजंग तक सड़क बन जाती है तो यात्रियों को नजंग तक वाहनों से ले जाया जाएगा।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में कार्मिक, शिक्षक और आउटसोर्स संयुक्त मोर्चे ने सरकार को दी चेतावनी, कहा-हड़ताल नह...

 


यहां बता दें कि फिलहाल यात्रियों को चीन सीमा में पड़ने वाले लिपुपास तक करीब 102 किलोमीटर का सफर पैदल तय करना पड़ता है। हालांकि धारचूला से लखनपुर तक 45 किलोमीटर सड़क का निर्माण हो गया है इससे 10 किलोमीटर आगे बूंदी पड़ता है जहां केएमवीएन का गेस्ट हाउस है। गौर करने वाली बात है कि चीन ने लिपुपास से भी आगे तक सड़क का निर्माण कर लिया है और वहां यात्रियों को वाहनों से ले जाया जाता है। केएमवीएन के महाप्रबंधक टीएस मर्तोलिया ने बताया कि भारत की तरफ से कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाने वाले यात्रियों के रात्रि विश्राम के लिए होम स्टे योजना के तहत नाभिढांग इलाके में मकान तैयार कर लिए गए हैं।   

Todays Beets: