Monday, November 19, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

दून के बाल आश्रमों पर पड़ा छापा, बेहद ही बदतर स्थिति में रह रहे बच्चे, एनओसी निरस्त करने के आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दून के बाल आश्रमों पर पड़ा छापा, बेहद ही बदतर स्थिति में रह रहे बच्चे, एनओसी निरस्त करने के आदेश

देहरादून। देहरादून स्थित बाल आश्रमों की खस्ताहालत और बच्चों की खराब स्थिति की शिकायत पर बालआयोग की टीम ने 2 बाल आश्रमों पर छापा मारा है। छापे के दौरान इस बात का खुलासा हुआ है कि बच्चों को तबेले में रखा गया है और वहां कपड़ों की दीवार बना दी गई है। बच्चों की हालत देखकर बाल आयोग की अध्यक्ष गुस्से से लाल हो गईं और जिलाधिकारी को तत्काल दोनों आश्रमों की एनओसी निरस्त करने के साथ ही एसडीएम को जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजने के आदेश दिए हैं। 

गौरतलब है कि बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी ने अपनी टीम के साथ शिमला बाईपास स्थित हरिओम आश्रम और शिवओम आश्रम में छापा मारा तो यहां की अव्यवस्थाएं और बच्चों की दयनीय हालत सामने आई। छापेमारी के दौरान पता चला कि आश्रम में 22 लड़कियां और 17 लड़के रह रहे हैं। लड़के और लड़कियों के कमरे के बीच कोई भी दरवाजा नहीं है। 

ये भी पढ़ें - खूबसूरत ‘मासरताल’ बन सकता है पर्यटन का नया मुकाम, 2 अलग रंगों का ताल बना कौतूहल का विषय


आपको बता दें कि बच्चों की दयनीय स्थिति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि शौचालय में 3 सीट लगाई गई है। बाल आश्रम की चारदीवारी के नाम पर सिर्फ चुनरी और धोती टांग दी गई है। कड़वापानी स्थित आश्रम में 10 साल तक की बालक-बालिकाओं को रखा गया है जबकि इससे बड़ी 14 बालिकाओं को शिवओम आश्रम गुरुकुल छात्रावास शिवराज नगर बरवाला में रखा गया है। बच्चों के आवास के सामने गौशाला बना दिया गया है। आश्रम प्रबंधक अनुपम आनंद गिरि और स्वामी अमित आनंद गिरि को व्यवस्था सुधारने को कहा गया तो बाल आयोग की अध्यक्ष के साथ दुर्व्यवहार एवं अभद्रता करने लगे। अध्यक्ष ऊषा नेगी ने बचपन बचाओ आंदोलन को आश्रम संचालकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं और जिलाधिकारी को दोनों आश्रमों की एनओसी को निरस्त करने के आदेश दिए हैं। 

 

Todays Beets: