Tuesday, August 14, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

चमोली में चीन सीमा के करीब बादल फटा, कई मजदूर दबे, मकानों को भी नुकसान

अंग्वाल न्यूज डेस्क

चमोली। उत्तराखंड पर मौसम का कहर लगातार जारी है। देर रात चमोली जिले में चीन की सीमा से सटे नीती घाटी में बादल फटने से भारी तबाही की खबर है। बताया जा रहा है कि जलम और तमक नामक गांव में बादल फटने की घटना हुई है। प्रशासन की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार इस घटना के बाद बाॅर्डर रोड आॅर्गेनाइजेशन में काम करने वाले मजूदरों के टेंट मलबे में दब गए। फिलहाल 3 मजदूरों के शवों को बाहर निकाल लिया गया है और बाकियों की तलाश जारी है। स्थानीय प्रशासन ने एसडीआरएफ और आपदा प्रबंधन की टीम को मौके पर भेज दिया गया है। 

गौरतलब है कि चीन सीमा से सटे इलाकों में बादल फटने से 3 आवासीय मकानों को भी नुकसान पहुंचा है। राहत और बचाव का कार्य पूरे जोर-शोर से चलाया जा रहा है। यहां बता दें कि सोमवार को भी चमोली के कुंडी और थराली इलाके में भी बादल फटने की घटना हुई थी जिसमें भारी नुकसान हुआ था। कई मकानों और गाड़ियों के मलबे में दबने  और बड़ी संख्या में पशुओं के बह जाने की खबर भी मिली थी। 

ये भी पढ़ें - विरोधियों को धराशायी करने वाली पिथौरागढ़ की बाॅक्सर हारी जिंदगी की जंग, जहरीला पदार्थ खाकर की खुदकुशी


यहां बता दें कि प्रदेश में लगातार भारी बारिश हो रही है। राज्य की ज्यादातर इलाकों में नदियां उफान पर हैं। पहाड़ों से होने वाले भूस्खलन से कई रास्ते बंद हो गए हैं। भारी बारिश ने जहां आमलोगों के जनजीवन को अस्त व्यस्त कर दिया है वहीं चारधाम यात्रा करने वाले यात्रियों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

बता दें कि गंगोत्री, यमुनोत्री के अलावा ऋषिकेश और उत्तरकाशी में भी सभी बड़ी नदियां उफान पर हैं। हरिद्वार में गंगा के खतरे के निशान के करीब पहुंचने से भी किनारे पर रहने वाले लोगों की परेशानियां और बढ़ गई हैं। 

Todays Beets: