Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

चमोली में चीन सीमा के करीब बादल फटा, कई मजदूर दबे, मकानों को भी नुकसान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चमोली में चीन सीमा के करीब बादल फटा, कई मजदूर दबे, मकानों को भी नुकसान

चमोली। उत्तराखंड पर मौसम का कहर लगातार जारी है। देर रात चमोली जिले में चीन की सीमा से सटे नीती घाटी में बादल फटने से भारी तबाही की खबर है। बताया जा रहा है कि जलम और तमक नामक गांव में बादल फटने की घटना हुई है। प्रशासन की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार इस घटना के बाद बाॅर्डर रोड आॅर्गेनाइजेशन में काम करने वाले मजूदरों के टेंट मलबे में दब गए। फिलहाल 3 मजदूरों के शवों को बाहर निकाल लिया गया है और बाकियों की तलाश जारी है। स्थानीय प्रशासन ने एसडीआरएफ और आपदा प्रबंधन की टीम को मौके पर भेज दिया गया है। 

गौरतलब है कि चीन सीमा से सटे इलाकों में बादल फटने से 3 आवासीय मकानों को भी नुकसान पहुंचा है। राहत और बचाव का कार्य पूरे जोर-शोर से चलाया जा रहा है। यहां बता दें कि सोमवार को भी चमोली के कुंडी और थराली इलाके में भी बादल फटने की घटना हुई थी जिसमें भारी नुकसान हुआ था। कई मकानों और गाड़ियों के मलबे में दबने  और बड़ी संख्या में पशुओं के बह जाने की खबर भी मिली थी। 

ये भी पढ़ें - विरोधियों को धराशायी करने वाली पिथौरागढ़ की बाॅक्सर हारी जिंदगी की जंग, जहरीला पदार्थ खाकर की खुदकुशी


यहां बता दें कि प्रदेश में लगातार भारी बारिश हो रही है। राज्य की ज्यादातर इलाकों में नदियां उफान पर हैं। पहाड़ों से होने वाले भूस्खलन से कई रास्ते बंद हो गए हैं। भारी बारिश ने जहां आमलोगों के जनजीवन को अस्त व्यस्त कर दिया है वहीं चारधाम यात्रा करने वाले यात्रियों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

बता दें कि गंगोत्री, यमुनोत्री के अलावा ऋषिकेश और उत्तरकाशी में भी सभी बड़ी नदियां उफान पर हैं। हरिद्वार में गंगा के खतरे के निशान के करीब पहुंचने से भी किनारे पर रहने वाले लोगों की परेशानियां और बढ़ गई हैं। 

Todays Beets: