Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

जिम काॅर्बेट की सैर करना अब हुआ आसान, कोटद्वार में पाखरो और रथवाढाब के दरवाजे खुले 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जिम काॅर्बेट की सैर करना अब हुआ आसान, कोटद्वार में पाखरो और रथवाढाब के दरवाजे खुले 

कोटद्वार। दुनिया भर में मशहूर जिम काॅर्बेट पार्क की सैर पर आने वालों के लिए काफी राहत की खबर है। सरकार ने गढ़वाल के प्रवेश द्वार कोटद्वार के पाखरो और रथवाढाब से कार्बेट नेशनल पार्क का गेट खोल दिया गया है। सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने वन विभाग के रिसेप्शन सेंटर से 6 जिप्सियों को कार्बेट सफारी के लिए हरी झंडी दिखाई। इस मौके पर उन्होंने युवाओं से अपील की वे अपनी शक्तियों को पहचानें और राज्य के विकास में अपनी भागीदारी दें।

पर्यटकों की राह आसान 

गौरतलब है कि दिल्ली से यहां आने वाले पर्यटकों को रामनगर के मुकाबले कोटद्वार से प्रवेश मिलने से करीब 50 किलोमीटर कम दूरी तय करनी पड़ेगी। इसके साथ ही उनके समय की भी बचत होगी। ऐसे में कम समय में कार्बेट देखने की इच्छा रखने वाले पर्यटकों के लिए ये काफी फायदेमंद होगा। राज्य के बाहर से आने वाले पर्यटकों को सीधे हवाई मार्ग से जौलीग्रांट आने का बेहतर विकल्प भी मिलेगा। 

ये भी पढ़ें - राज्य में सभी गाड़ियों में डस्टबिन लगाना हुआ अनिवार्य, सड़कों पर कूड़ा फेंकना पड़ सकता है महंगा


सीएम ने हड़ताल पर जताई चिंता

आपको बता दें कि जिम काॅर्बेट पार्क के गेटों को खोलते हुए मुख्यमंत्री ने इस बात पर भी चिंता जताई के गृह मंत्रालय राज्य को हड़ताली राज्यों की श्रेणी में रखा है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड को हड़ताली प्रदेश नहीं बनने दिया जाएगा। हड़ताल विकास में बाधा बनती है। राज्य के वित्तीय बोझ को कम करते हुए राजस्व बढ़ाने के उपाय किए जा रहे हैं इसके साथ ही पर्यटन को स्वरोजगार से जोड़ने की पहल की गई है। कैबिनेट मंत्री डाॅक्टर हरक सिंह रावत ने कहा कि इको टूरिज्म के जरिए पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए गूलरझाला, पाखरो, कोल्हूचैड़, सेंधीखाल और सनेह गेस्ट हाउसों का पुनर्निर्माण किया जाएगा।  

Todays Beets: