Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

प्रशासनिक इकाइयों की लापरवाही पर बरसे सीएम, जिलाधिकारियों को दिए शिकायत निवारण शिविर लगाने के आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्रशासनिक इकाइयों की लापरवाही पर बरसे सीएम, जिलाधिकारियों को दिए शिकायत निवारण शिविर लगाने के आदेश

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने प्रशासनिक अधिकारियों को काम के प्रति सुस्ती बरतने पर कड़ी फटकार लगाई है। जनता को एक पारदर्शी और स्वच्छ सरकार देने के वादे को लेकर निचली प्रशासनिक इकाइयां गंभीर नजर नहीं आ रही हैं इसका नतीजा यह हो रहा है कि जिन समस्याओं का निपटारा निचले स्तर पर होना चाहिए वह भी मुख्यमंत्री के कार्यालय तक पहुंच जा रही है। इस पर नाराज मुख्यमंत्री ने अब सभी जिलाधिकारियों को प्रत्येक सोमवार को पूरे कार्यदिवस में जिला स्तर पर शिकायत निवारण शिविर आयोजित करने का फरमान जारी किया है। 

स्थानीय शिकायतों पर नाराज सीएम

गौरतलब है कि सरकार की तरफ से मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने इस संबंध में सभी जिलाधिकारियों को आदेश जारी कर दिए हैं। शासनादेश में जिलाधिकारियों को हर सोमवार को सुबह दस बजे से कार्य समापन की अवधि तक अनिवार्य रूप से शिकायत निवारण शिविर लगाने को कहा गया है। इस शिविर में स्थानीय समस्याओं को फौरन निपटाने के आदेश दिए गए हैं। बता दें कि सरकार की ओर से तहसील और जिला स्तर पर ही शिकायतों को अनिवार्य रूप से निस्तारित करने के निर्देश पहले ही दिए जा चुके हैं। कुछ समय से सरकार को मिल रही स्थानीय शिकायतों के बाद यह फैसला लिया गया है। 

ये भी पढ़ें - बेरोजगार नौजवानों के लिए नौकरी पाने का सुनहरा अवसर, फायर और उद्यान विभाग में आज से शुरू होगी ...


जिलाधिकारियों को निर्देश

आपको बता दें कि मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने इसे सही नहीं माना और  जिलाधिकारियों को स्थानीय स्तर की समस्याओं के समाधान के लिए शासन द्वारा जारी किए जा रहे दिशा-निर्देशों पर अमल करने को कहा है।

 

Todays Beets: