Friday, November 24, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

प्रशासनिक इकाइयों की लापरवाही पर बरसे सीएम, जिलाधिकारियों को दिए शिकायत निवारण शिविर लगाने के आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्रशासनिक इकाइयों की लापरवाही पर बरसे सीएम, जिलाधिकारियों को दिए शिकायत निवारण शिविर लगाने के आदेश

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने प्रशासनिक अधिकारियों को काम के प्रति सुस्ती बरतने पर कड़ी फटकार लगाई है। जनता को एक पारदर्शी और स्वच्छ सरकार देने के वादे को लेकर निचली प्रशासनिक इकाइयां गंभीर नजर नहीं आ रही हैं इसका नतीजा यह हो रहा है कि जिन समस्याओं का निपटारा निचले स्तर पर होना चाहिए वह भी मुख्यमंत्री के कार्यालय तक पहुंच जा रही है। इस पर नाराज मुख्यमंत्री ने अब सभी जिलाधिकारियों को प्रत्येक सोमवार को पूरे कार्यदिवस में जिला स्तर पर शिकायत निवारण शिविर आयोजित करने का फरमान जारी किया है। 

स्थानीय शिकायतों पर नाराज सीएम

गौरतलब है कि सरकार की तरफ से मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने इस संबंध में सभी जिलाधिकारियों को आदेश जारी कर दिए हैं। शासनादेश में जिलाधिकारियों को हर सोमवार को सुबह दस बजे से कार्य समापन की अवधि तक अनिवार्य रूप से शिकायत निवारण शिविर लगाने को कहा गया है। इस शिविर में स्थानीय समस्याओं को फौरन निपटाने के आदेश दिए गए हैं। बता दें कि सरकार की ओर से तहसील और जिला स्तर पर ही शिकायतों को अनिवार्य रूप से निस्तारित करने के निर्देश पहले ही दिए जा चुके हैं। कुछ समय से सरकार को मिल रही स्थानीय शिकायतों के बाद यह फैसला लिया गया है। 

ये भी पढ़ें - बेरोजगार नौजवानों के लिए नौकरी पाने का सुनहरा अवसर, फायर और उद्यान विभाग में आज से शुरू होगी ...


जिलाधिकारियों को निर्देश

आपको बता दें कि मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने इसे सही नहीं माना और  जिलाधिकारियों को स्थानीय स्तर की समस्याओं के समाधान के लिए शासन द्वारा जारी किए जा रहे दिशा-निर्देशों पर अमल करने को कहा है।

 

Todays Beets: