Wednesday, January 24, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

प्रशासनिक इकाइयों की लापरवाही पर बरसे सीएम, जिलाधिकारियों को दिए शिकायत निवारण शिविर लगाने के आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्रशासनिक इकाइयों की लापरवाही पर बरसे सीएम, जिलाधिकारियों को दिए शिकायत निवारण शिविर लगाने के आदेश

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने प्रशासनिक अधिकारियों को काम के प्रति सुस्ती बरतने पर कड़ी फटकार लगाई है। जनता को एक पारदर्शी और स्वच्छ सरकार देने के वादे को लेकर निचली प्रशासनिक इकाइयां गंभीर नजर नहीं आ रही हैं इसका नतीजा यह हो रहा है कि जिन समस्याओं का निपटारा निचले स्तर पर होना चाहिए वह भी मुख्यमंत्री के कार्यालय तक पहुंच जा रही है। इस पर नाराज मुख्यमंत्री ने अब सभी जिलाधिकारियों को प्रत्येक सोमवार को पूरे कार्यदिवस में जिला स्तर पर शिकायत निवारण शिविर आयोजित करने का फरमान जारी किया है। 

स्थानीय शिकायतों पर नाराज सीएम

गौरतलब है कि सरकार की तरफ से मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने इस संबंध में सभी जिलाधिकारियों को आदेश जारी कर दिए हैं। शासनादेश में जिलाधिकारियों को हर सोमवार को सुबह दस बजे से कार्य समापन की अवधि तक अनिवार्य रूप से शिकायत निवारण शिविर लगाने को कहा गया है। इस शिविर में स्थानीय समस्याओं को फौरन निपटाने के आदेश दिए गए हैं। बता दें कि सरकार की ओर से तहसील और जिला स्तर पर ही शिकायतों को अनिवार्य रूप से निस्तारित करने के निर्देश पहले ही दिए जा चुके हैं। कुछ समय से सरकार को मिल रही स्थानीय शिकायतों के बाद यह फैसला लिया गया है। 

ये भी पढ़ें - बेरोजगार नौजवानों के लिए नौकरी पाने का सुनहरा अवसर, फायर और उद्यान विभाग में आज से शुरू होगी ...


जिलाधिकारियों को निर्देश

आपको बता दें कि मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने इसे सही नहीं माना और  जिलाधिकारियों को स्थानीय स्तर की समस्याओं के समाधान के लिए शासन द्वारा जारी किए जा रहे दिशा-निर्देशों पर अमल करने को कहा है।

 

Todays Beets: