Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

एनसीईआरटी किताबों की छपाई के ठेके में शिक्षा मंत्री को झटका, सीएम ने पलटे आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एनसीईआरटी किताबों की छपाई के ठेके में शिक्षा मंत्री को झटका, सीएम ने पलटे आदेश

देहरादून। ऐसा लग रहा है कि आने उत्तराखंड में शासन के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। सरकार ने एनसीईआरटी के किताबों की छपाई के मामले में अपने कदम वापस खींच लिए हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने किताबों के लिए कागज की खरीद और छपाई का काम अलग-अलग कंपनियों को देने के निर्देश दिए हैं। इसके बाद शिक्षा विभाग ने कागज और छपाई वाले आदेश को पलट दिया। सीएम के इस आदेश को विद्यालयी शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे के लिए झटका माना जा रहा है क्योंकि उन्होंने कागज की खरीद और छपाई का काम एक ही कंपनी को दिया था। 

एक ही कंपनी को काम 

गौरतलब है कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सभी को एक समान शिक्षा दिलाने के मकसद से सभी स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबें चलाने के निर्देश दिए थे। उत्तराखंड में भी इसके लिए पहल शुरू कर दी गई है। शिक्षा मंत्री ने किताबों की छपाई और कागज की खरीद का काम एक ही कंपनी को देने के निर्देश दिए थे। इसके बाद पूर्व शिक्षा सचिव चंद्रशेखर भट्ट ने 17 अक्टूबर को एक ही फर्म को दोनों काम करने को जीओ जारी कर दिया था। हालांकि शिक्षा विभाग के अधिकारी मंत्री के फैसले से खुश नहीं थे।

ये भी पढ़ें - शिक्षा को बेहतर बनाने में उत्कृष्ट योगदान देने वाले दून के 7 शिक्षक होंगे सम्मानित, अगले महीन...


नए टेंडर होंगे

आपको बता दें कि अब मुख्यमंत्री ने कागज और छपाई का काम अलग-अलग कंपनियों को देने के निर्देश दिए हैं। अब कागज की खरीद और छपाई के लिए अलग-अलग टेंडर जारी किए जाएंगे। शिक्षा सचिव डॉ. भूपेंद्र कौर औलख ने इसके आदेश कर दिए हैं।  सीएम के इस आदेश को शिक्षा मंत्री के लिए एक झटका माना जा रहा है। बता दें कि सरकार अगले सत्र से राज्य में एनसीईआरटी की किताबें लागू करने का निर्णय लिया है। 

Todays Beets: