Monday, July 16, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

सड़क हादसों पर सीएम का अजीबोगरीब बयान, कहा-गड्ढों के लिए डीएम होंगे जिम्मेदार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सड़क हादसों पर सीएम का अजीबोगरीब बयान, कहा-गड्ढों के लिए डीएम होंगे जिम्मेदार

देहरादून। रामनगर इलाके में रविवार को हुई भीषण सड़क दुर्घटना के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सड़कों की स्थिति को लेकर सख्त रुख अपनाया है। उन्होंने कहा कि सड़कों पर गड्ढों की वजह से होने वाली दुर्घटना के लिए उस जिले के डीएम जिम्मेदार होंगे। सीएम के द्वारा राज्य की सड़कों को गड्ढा मुक्त करने के निर्देश दे दिए गए हैं। जिलाधिकारियों से कहा गया है कि वह लोक निर्माण विभाग को आपदा मद से इसके लिए बजट मुहैया कराएं।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री ने कहा कि रामनगर में हुए सड़क हादसे के बाद सरकार सड़कों को लेकर काफी गंभीर है। सड़कों पर गड्ढों की वजह से अब हादसा न हो, इसके लिए जिलाधिकारियों को आपदा मद से 5-5 करोड़ रुपये का बजट दिया गया है। इसके साथ ही धुमाकोट हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं और रिपोर्ट मिलने के बाद कार्रवाई भी होगी। 

ये भी पढ़ें - निलंबित शिक्षिका के मामले में हरक सिंह ने दी मंत्री और अधिकारी को नसीहत, कहा-मर्यादा में रहकर...


यहां बता दें कि राज्य में आपदा से निपटने को सरकार ने 10 हजार स्वयंसेवकों को प्रशिक्षित किया है। इसके लिए स्थानीय लोगों को प्रशिक्षण देकर स्वयं सेवक के रूप में तैयार किया गया है। मुख्यमंत्री ने जोर देते हुए कहा कि मानसून में होने वाली आपदा की घटनाओं पर भी सरकार गंभीर है। राज्य में आपदा की घटनाओं से निपटने के लिए 3 हेलीकाॅप्टर 24 घंटे उपलब्ध रहेंगे। मरीजों के लिए हैली एंबूलेंस की व्यवस्था को कैसे बेहतर बनाया जाए इस पर विचार किया जा रहा है। 

Todays Beets: