Monday, May 27, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

उत्तराखंड में पर्यटन को बढ़ाना देने के लिए 13 जिलों मे नए थीम आधारित पर्यटन स्थल स्थापित किए जाएंगे - सीएम रावत

अंग्वाल संवाददाता
उत्तराखंड में पर्यटन को बढ़ाना देने के लिए 13 जिलों मे नए थीम आधारित पर्यटन स्थल स्थापित किए जाएंगे - सीएम रावत

देहरादून । उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अपनी नई रणनीति का खुलासा करते हुए कहा कि अबह प्रदेश के 13 जिलों में 13 नए पर्यटन स्थान बनाए जाएंगे। इसके लिए डीपीआर स्वीकृत की जा चुकी है। उन्होंने साफ किया इन पर्यटन स्थलों को थीम पर आधारित बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि मसूरी करीब 200 साल पुराना है, कुछ ऐसा ही हाल नैनीताल का है। ऐसे में प्रदेश में नए पर्यटन स्थल बनाए जाने की जरूरत है। अब इस के मद्देनजर कुछ नए पर्यटन स्थलों को स्थापित किया जाएगा।

धार्मिक पर्यटन के लिए अधिक सुविधाएं

इस दौरान सीएम रावत ने कहा कि पर्यटन के साथ ही प्रदेश में धार्मिक पर्यटन मुख्य है। ऐसे में लोगों को सुविधाएं बढ़ाने के लिए प्रयास किए जाएंगे। ऑल वेदर रोड का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यह उत्तराखंड के लिए गेम चेंजर साबित होगी। 


हाइड्रो प्रोजक्ट में रकम डूबी

इस दौारन हाइड्रो प्रोजेक्ट्स के बारे में मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ पर्यावरण समस्याओं के कारण उत्तराखंड के 27,000 करोड़ रुपये डूब गए। उन्होंने कहा कि अब सरकार ने नीतिगत फैसला लेते हुए हाइड्रो प्रोजेक्ट के बजाय सोलर एनर्जी की तरफ शिफ्ट किया है। इसमें दो रुपये 37 पैसे प्रति यूनिट खर्चा आता है। यह सबसे सस्ता पड़ता है।  

Todays Beets: