Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

उत्तराखंड में पर्यटन को बढ़ाना देने के लिए 13 जिलों मे नए थीम आधारित पर्यटन स्थल स्थापित किए जाएंगे - सीएम रावत

अंग्वाल संवाददाता
उत्तराखंड में पर्यटन को बढ़ाना देने के लिए 13 जिलों मे नए थीम आधारित पर्यटन स्थल स्थापित किए जाएंगे - सीएम रावत

देहरादून । उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अपनी नई रणनीति का खुलासा करते हुए कहा कि अबह प्रदेश के 13 जिलों में 13 नए पर्यटन स्थान बनाए जाएंगे। इसके लिए डीपीआर स्वीकृत की जा चुकी है। उन्होंने साफ किया इन पर्यटन स्थलों को थीम पर आधारित बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि मसूरी करीब 200 साल पुराना है, कुछ ऐसा ही हाल नैनीताल का है। ऐसे में प्रदेश में नए पर्यटन स्थल बनाए जाने की जरूरत है। अब इस के मद्देनजर कुछ नए पर्यटन स्थलों को स्थापित किया जाएगा।

धार्मिक पर्यटन के लिए अधिक सुविधाएं

इस दौरान सीएम रावत ने कहा कि पर्यटन के साथ ही प्रदेश में धार्मिक पर्यटन मुख्य है। ऐसे में लोगों को सुविधाएं बढ़ाने के लिए प्रयास किए जाएंगे। ऑल वेदर रोड का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यह उत्तराखंड के लिए गेम चेंजर साबित होगी। 


हाइड्रो प्रोजक्ट में रकम डूबी

इस दौारन हाइड्रो प्रोजेक्ट्स के बारे में मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ पर्यावरण समस्याओं के कारण उत्तराखंड के 27,000 करोड़ रुपये डूब गए। उन्होंने कहा कि अब सरकार ने नीतिगत फैसला लेते हुए हाइड्रो प्रोजेक्ट के बजाय सोलर एनर्जी की तरफ शिफ्ट किया है। इसमें दो रुपये 37 पैसे प्रति यूनिट खर्चा आता है। यह सबसे सस्ता पड़ता है।  

Todays Beets: