Sunday, September 23, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

धमाका कर मछली मारना अल्मोड़ा के कांग्रेस नेता को पड़ा महंगा, सिर फटने से हुई मौत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
धमाका कर मछली मारना अल्मोड़ा के कांग्रेस नेता को पड़ा महंगा, सिर फटने से हुई मौत

अल्मोड़ा। अवैध तरीके से मछली पकड़ना अल्मोड़ा के एक कांग्रेस नेता को काफी महंगी पड़ी है। बताया जा रहा है कि मछली मारने के लिए किए गए धमाके की चपेट में आने से उनकी मौत हो गई। खबरों के अनुसार गुरुवार को दोपहर बाद भैंसियाछाना ब्लॉक के कांग्रेस अध्यक्ष 50 वर्षीय सर्वजीत सिंह मछली पकड़ने के लिए गदेरे के करीब गए थे। इस दौरान किए गए धमाके की चपेट में आने से उनका सिर फट गया और दोनों हाथ बुरी तरह से घायल हो गए। आनन-फानन में उनके दोस्तों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया लेकिन वहां उनकी मौत हो गई। बता दें कि इन दिनों राज्य में लगातार भारी बारिश के कारण नदियां और गदेरे पूरे उफान पर हैं और उनमें मछलियां भी आ गई हैं।

गौरतलब है कि प्रदेश की नदियों में धमाके के जरिए मछली मारने पर रोक लगे होने के बावजूद नदियों और गदेरों में मछलियों को ब्लीचिंग पाउडर डालकर या ब्लास्ट कर मारने की घटनाएं पहाड़ों पर आम हैं। अल्मोड़ा के निकट कोसी, स्वाल, रामगंगा, गगास, गोमती, सरयू आदि नदियों के अलावा छोटे गदेरों में भी लोग अवैध तरीके से मछलियों का शिकार करते रहते हैं। 

ये भी पढ़ें - हड़ताली कर्मचारियों पर हाईकोर्ट हुआ और सख्त, हड़ताल को गैर कानूनी एवं कर्मचारी संगठनों की मान्य...


बताया जाता है कि पानी में ब्लास्ट करने के लिए कारतूस के आगे निकली बत्ती में आग लगा दी जाती है और इसे पानी में डुबा दिया जाता है। वाटरप्रूफ बत्ती के जलने के बाद पानी के अंदर धमाका होता है और मछलियां मर जाती हैं। इस काम में कई बार सावधानी नहीं बरतने से बाहर भी धमाका हो जाता है। 

यहां बता दें कि भैंसियाछाना ब्लॉक के कांग्रेस अध्यक्ष 50 वर्षीय सर्वजीत सिंह के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। हालांकि अभी इस बात का खुलासा नहीं हुआ है कि उनकी मौत उस धमाके की वजह से हुई या फिर किसी और वजह से हुई है। मछली पकड़ने के लिए किया जाने वाला धमाका इतना तेज था कि उनका सिर फट गया और हाथ बुरी तरह से जख्मी हो गया। दोस्तों के द्वारा बेस अस्पताल ले जाने के बावजूद सर्वजीत सिंह को बचाया नहीं जा सका।  

Todays Beets: