Thursday, November 22, 2018

Breaking News

   ऑस्ट्रेलिया के PM मॉरिशन बोले- भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था     ||   पश्चिम बंगालः सिलीगुड़ी की तीस्ता नहर में 4 जिंदा मोर्टार सेल बरामद     ||   मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः कोर्ट ने मंजू वर्मा को 1 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा     ||   करतारपुर साहिब कॉरिडोर को मंजूरी देने पर CM अमरिंदर ने PM मोदी को कहा- शुक्रिया     ||   करतारपुर कॉरिडोर पर मोदी सरकार की मंजूरी के बाद बोला PAK- जल्द देंगे गुड न्यूज     ||   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||

धमाका कर मछली मारना अल्मोड़ा के कांग्रेस नेता को पड़ा महंगा, सिर फटने से हुई मौत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
धमाका कर मछली मारना अल्मोड़ा के कांग्रेस नेता को पड़ा महंगा, सिर फटने से हुई मौत

अल्मोड़ा। अवैध तरीके से मछली पकड़ना अल्मोड़ा के एक कांग्रेस नेता को काफी महंगी पड़ी है। बताया जा रहा है कि मछली मारने के लिए किए गए धमाके की चपेट में आने से उनकी मौत हो गई। खबरों के अनुसार गुरुवार को दोपहर बाद भैंसियाछाना ब्लॉक के कांग्रेस अध्यक्ष 50 वर्षीय सर्वजीत सिंह मछली पकड़ने के लिए गदेरे के करीब गए थे। इस दौरान किए गए धमाके की चपेट में आने से उनका सिर फट गया और दोनों हाथ बुरी तरह से घायल हो गए। आनन-फानन में उनके दोस्तों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया लेकिन वहां उनकी मौत हो गई। बता दें कि इन दिनों राज्य में लगातार भारी बारिश के कारण नदियां और गदेरे पूरे उफान पर हैं और उनमें मछलियां भी आ गई हैं।

गौरतलब है कि प्रदेश की नदियों में धमाके के जरिए मछली मारने पर रोक लगे होने के बावजूद नदियों और गदेरों में मछलियों को ब्लीचिंग पाउडर डालकर या ब्लास्ट कर मारने की घटनाएं पहाड़ों पर आम हैं। अल्मोड़ा के निकट कोसी, स्वाल, रामगंगा, गगास, गोमती, सरयू आदि नदियों के अलावा छोटे गदेरों में भी लोग अवैध तरीके से मछलियों का शिकार करते रहते हैं। 

ये भी पढ़ें - हड़ताली कर्मचारियों पर हाईकोर्ट हुआ और सख्त, हड़ताल को गैर कानूनी एवं कर्मचारी संगठनों की मान्य...


बताया जाता है कि पानी में ब्लास्ट करने के लिए कारतूस के आगे निकली बत्ती में आग लगा दी जाती है और इसे पानी में डुबा दिया जाता है। वाटरप्रूफ बत्ती के जलने के बाद पानी के अंदर धमाका होता है और मछलियां मर जाती हैं। इस काम में कई बार सावधानी नहीं बरतने से बाहर भी धमाका हो जाता है। 

यहां बता दें कि भैंसियाछाना ब्लॉक के कांग्रेस अध्यक्ष 50 वर्षीय सर्वजीत सिंह के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। हालांकि अभी इस बात का खुलासा नहीं हुआ है कि उनकी मौत उस धमाके की वजह से हुई या फिर किसी और वजह से हुई है। मछली पकड़ने के लिए किया जाने वाला धमाका इतना तेज था कि उनका सिर फट गया और हाथ बुरी तरह से जख्मी हो गया। दोस्तों के द्वारा बेस अस्पताल ले जाने के बावजूद सर्वजीत सिंह को बचाया नहीं जा सका।  

Todays Beets: