Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

धमाका कर मछली मारना अल्मोड़ा के कांग्रेस नेता को पड़ा महंगा, सिर फटने से हुई मौत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
धमाका कर मछली मारना अल्मोड़ा के कांग्रेस नेता को पड़ा महंगा, सिर फटने से हुई मौत

अल्मोड़ा। अवैध तरीके से मछली पकड़ना अल्मोड़ा के एक कांग्रेस नेता को काफी महंगी पड़ी है। बताया जा रहा है कि मछली मारने के लिए किए गए धमाके की चपेट में आने से उनकी मौत हो गई। खबरों के अनुसार गुरुवार को दोपहर बाद भैंसियाछाना ब्लॉक के कांग्रेस अध्यक्ष 50 वर्षीय सर्वजीत सिंह मछली पकड़ने के लिए गदेरे के करीब गए थे। इस दौरान किए गए धमाके की चपेट में आने से उनका सिर फट गया और दोनों हाथ बुरी तरह से घायल हो गए। आनन-फानन में उनके दोस्तों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया लेकिन वहां उनकी मौत हो गई। बता दें कि इन दिनों राज्य में लगातार भारी बारिश के कारण नदियां और गदेरे पूरे उफान पर हैं और उनमें मछलियां भी आ गई हैं।

गौरतलब है कि प्रदेश की नदियों में धमाके के जरिए मछली मारने पर रोक लगे होने के बावजूद नदियों और गदेरों में मछलियों को ब्लीचिंग पाउडर डालकर या ब्लास्ट कर मारने की घटनाएं पहाड़ों पर आम हैं। अल्मोड़ा के निकट कोसी, स्वाल, रामगंगा, गगास, गोमती, सरयू आदि नदियों के अलावा छोटे गदेरों में भी लोग अवैध तरीके से मछलियों का शिकार करते रहते हैं। 

ये भी पढ़ें - हड़ताली कर्मचारियों पर हाईकोर्ट हुआ और सख्त, हड़ताल को गैर कानूनी एवं कर्मचारी संगठनों की मान्य...


बताया जाता है कि पानी में ब्लास्ट करने के लिए कारतूस के आगे निकली बत्ती में आग लगा दी जाती है और इसे पानी में डुबा दिया जाता है। वाटरप्रूफ बत्ती के जलने के बाद पानी के अंदर धमाका होता है और मछलियां मर जाती हैं। इस काम में कई बार सावधानी नहीं बरतने से बाहर भी धमाका हो जाता है। 

यहां बता दें कि भैंसियाछाना ब्लॉक के कांग्रेस अध्यक्ष 50 वर्षीय सर्वजीत सिंह के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। हालांकि अभी इस बात का खुलासा नहीं हुआ है कि उनकी मौत उस धमाके की वजह से हुई या फिर किसी और वजह से हुई है। मछली पकड़ने के लिए किया जाने वाला धमाका इतना तेज था कि उनका सिर फट गया और हाथ बुरी तरह से जख्मी हो गया। दोस्तों के द्वारा बेस अस्पताल ले जाने के बावजूद सर्वजीत सिंह को बचाया नहीं जा सका।  

Todays Beets: