Thursday, May 24, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

टिहरी झील में आयोजित बैठक को कांग्रेस ने मौजमस्ती और फोटो सेशन बताया, सरकार से इस्तीफे की मांग

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टिहरी झील में आयोजित बैठक को कांग्रेस ने मौजमस्ती और फोटो सेशन बताया, सरकार से इस्तीफे की मांग

देहरादून। टिहरी झील में हुई उत्तराखंड सरकार की कैबिनेट मीटिंग से भाजपा कार्यकर्ता जहां खुश हैं वहीं विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने इसे आड़े हाथों लिया है। कांग्रेस ने 4 करोड़ रुपये वाली फ्लोटिंग बोट पर हुई मीटिंग को मौजमस्ती और फोटो सेशन करार दिया है। कांग्रेस के जिलाध्यक्ष सूरज राणा ने टिहरी झील में बैठक के आयोजन पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि टिहरी बांध प्रभावित और विस्थापितों की समस्याओं के समाधान पर किसी तरह का कोई विचार नहीं किया गया। 

गौरतलब है कि उत्तराखंड सरकार की कैबिनेट मीटिंग पहली बार राजधानी के बाहर टिहरी झील में आयोजित की गई थी। इस मीटिंग में राज्य के विकास के लिए कई फैसले लिए गए लेकिन विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने इसे महज मौजमस्ती और फोटो सेशन कराने वाला आयोजन बताते हुए भाजपा सरकार पर आरोप लगाया कि इस बैठक में टिहरी बांध प्रभावित 17 गांव के 415 परिवारों और पुरानी टिहरी विस्थापितों की समस्याओं के निस्तारण के लिए कोई निर्णय नहीं लिया गया। कांग्रेस के जिलाध्यक्ष सूरज राणा ने कहा कि उन्होंने जिलाधिकारी के माध्यम से 13 सूत्रीय मांगों का एक पत्र मुख्यमंत्री को सौंपा था लेकिन इस पर कोई विचार नहीं किया गया। 

ये भी पढ़ें - सरकारी कामकाज हो सकता ठप, लोगों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, 5 लाख कर्मचारी बैठेंगे धरने पर


यहां बता दें कि कांग्रेस ने कहा कि टिहरी में कैबिनेट का आयोजन होने से लोगों को काफी उम्मीदें थी लेकिन सरकार ने उनकी उम्मीदों पर पूरी तरह से पानी फेर दिया। कांग्रेस के नेता शांतिप्रसाद भट्ट ने कहा कि भाजपा के मंत्री, विधायकों, कार्यकर्ताओं ने टिहरी झील में कैबिनेट बैठक के नाम पर मौजमस्ती कर फोटो सेशन करवाया। कांग्रेस के नेताओं ने सरकार से बांध प्रभावितों का विस्थापन, हनुमंत रावत कमेटी की सिफारिशों पर नई टिहरी में मुफ्त पानी, बिजली उपलब्ध कराने सहित जनहित के 15 कार्य पूरे नहीं करने पर सरकार से इस्तीफे की मांग की है।  

Todays Beets: