Saturday, December 15, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

नौकरी दिलाने के नाम पर बड़ा फर्जीवाड़ा, बेचारे मजदूर अब बिना पैसे हो रहे परेशान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नौकरी दिलाने के नाम पर बड़ा फर्जीवाड़ा, बेचारे मजदूर अब बिना पैसे हो रहे परेशान

हरिद्वार। हरिद्वार में नौकरी दिलाने के नाम पर एजेंट और ठेकेदार की मिलीभगत से बड़े फर्जीवाड़ा का खुलासा हुआ है। इस फर्जीवाड़े में बिहार से आए करीब 500 लोगों को फर्जी नियुक्तिपत्र देकर हरिद्वार के सिडकुल भेज दिया गया। लोगों को फर्जी नियुक्तिपत्र का पता हरिद्वार आकर लगा जब कंपनी ने उन्हें नौकरी देने से मना कर दिया। इन लोगों से  खाते और पेटीएम के माध्यम से इन लोगों से एक हजार से लेकर 10 हजार रुपये तक लिए गए हैं।

बिना पैसे के परेशान 

गौरतलब है कि उत्तराखंड में इन दिनों कड़ाके की ठंड पड़ रही है। ऐसे में ये लोग यहां ठंड में अपनी रातें बिताने पर मजबूर हैं क्योंकि इनमें से ज्यादातर लोगों के पास बिहार वापस जाने के लिए पैसे भी नहीं हैं।  इनका आरोप है कि बिहार में सरैया जगवालिया निवासी दो ठेकेदारों ने नौकरी देने के नाम बिहार के अलग-अलग क्षेत्रों में रहने वाले सैकड़ों लोगों से रुपये वसूले हैं। खाते और पेटीएम के माध्यम से इन लोगों से एक हजार से लेकर 10 हजार रुपये तक लिए गए हैं।

ये भी पढ़ें - राज्य की शिक्षा व्यवस्था में आएगा सुधार, अब छात्रों ही नहीं शिक्षकों का भी रिपोर्ट कार्ड होगा तैयार


नौकरी के नाम पर ठगी 

यहां  बता दें कि बिहार के अलग-अलग क्षेत्रों से यह लोग समूह में 3, 5 व 6 जनवरी को हरिद्वार पहुंचे। नियुक्ति पत्र लेकर जब यह लोग सिडकुल स्थित कंपनी में पहुंचे तो वहां यह जानकर उनके होश उड़ गए कि नियुक्ति पत्र तो फर्जी है। कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि उन्हें किसी ने नौकरी के नाम पर ठग लिया है।

 

Todays Beets: