Monday, October 22, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

नेपाली मजदूर को नाबालिग से दुराचार के मामले में 12 साल की सश्रम कारावास, 10 हजार का जुर्माना भी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नेपाली मजदूर को नाबालिग से दुराचार के मामले में 12 साल की सश्रम कारावास, 10 हजार का जुर्माना भी

देहरादून। एक नाबालिग से दूराचार करने के आरोप में विशेष सत्र न्यायाधीश हीरा सिंह बोनाल की अदालत ने पोक्सो में एक नेपाली मजदूर को 12 साल की कठोर करावास की सजा सुनाई है। सजा के साथ उसे 10 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। जुर्माने की यह राशि पीड़िता को दिलाई जाएगी। गौर करने वाली बात है कि पिछले साल पिंडर नदी पर पुल के निर्माण के दौरान एक 10 साल की लड़की के साथ 48 साल के एक अधेड़ विजय बहादुर ने दुराचार किया था। बीमार होने के बाद बच्ची ने पिता को घटना के बारे में बताया उसके बाद पिता ने 27 अप्रैल 2017 को कपकोट थाने में तहरीर दी थी। 24 मई 2017 को पोक्सो के तहत मामला दर्ज किया गया। 

यहां बता दें कि पुलिस ने अपना आरोप पत्र न्यायालय को भेजा। जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी आबिद हसन और विशेष लोक अभियोजक खड़क सिंह कार्क ने 14 गवाह अदालत में पेश किए। सभी गवाहो के बयान सुनने के बाद विशेष सत्र न्यायाधीश की अदालत में नेपाली हाल खाती गांव निवासी विजय बहादुर को 12 साल की कठोर करावास की सजा और 10 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। जुर्माना नहीं देने पर एक साल की अतिरिक्त सजा भी भुगतनी पड़ेगी। 


ये भी पढ़ें - तरला नागल में बनेगा प्रदेश का पहला सिटी पार्क, बच्चों को आकर्षित करने के लिए बनेंगे फूड पार्क 

Todays Beets: