Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

नेपाली मजदूर को नाबालिग से दुराचार के मामले में 12 साल की सश्रम कारावास, 10 हजार का जुर्माना भी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नेपाली मजदूर को नाबालिग से दुराचार के मामले में 12 साल की सश्रम कारावास, 10 हजार का जुर्माना भी

देहरादून। एक नाबालिग से दूराचार करने के आरोप में विशेष सत्र न्यायाधीश हीरा सिंह बोनाल की अदालत ने पोक्सो में एक नेपाली मजदूर को 12 साल की कठोर करावास की सजा सुनाई है। सजा के साथ उसे 10 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। जुर्माने की यह राशि पीड़िता को दिलाई जाएगी। गौर करने वाली बात है कि पिछले साल पिंडर नदी पर पुल के निर्माण के दौरान एक 10 साल की लड़की के साथ 48 साल के एक अधेड़ विजय बहादुर ने दुराचार किया था। बीमार होने के बाद बच्ची ने पिता को घटना के बारे में बताया उसके बाद पिता ने 27 अप्रैल 2017 को कपकोट थाने में तहरीर दी थी। 24 मई 2017 को पोक्सो के तहत मामला दर्ज किया गया। 

यहां बता दें कि पुलिस ने अपना आरोप पत्र न्यायालय को भेजा। जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी आबिद हसन और विशेष लोक अभियोजक खड़क सिंह कार्क ने 14 गवाह अदालत में पेश किए। सभी गवाहो के बयान सुनने के बाद विशेष सत्र न्यायाधीश की अदालत में नेपाली हाल खाती गांव निवासी विजय बहादुर को 12 साल की कठोर करावास की सजा और 10 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। जुर्माना नहीं देने पर एक साल की अतिरिक्त सजा भी भुगतनी पड़ेगी। 


ये भी पढ़ें - तरला नागल में बनेगा प्रदेश का पहला सिटी पार्क, बच्चों को आकर्षित करने के लिए बनेंगे फूड पार्क 

Todays Beets: