Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

मेडिकल छात्रों को हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत, नहीं बढ़ाई जाएगी फीस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मेडिकल छात्रों को हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत, नहीं बढ़ाई जाएगी फीस

देहरादून। मेडिकल की पढ़ाई करने वाले छात्रों को नैनीताल हाईकोर्ट ने बड़ी राहत दी है। कोर्ट ने अब स्पष्ट कर दिया है कि आयुर्वेदिक काॅलेजों में फीस नहीं बढ़ाई जाएगी। पहले हाईकोर्ट की एकलपीठ ने आयुर्वेदिक काॅलेजों में फीस बढ़ाने के शासनादेश को निरस्त किया था और बढ़ी हुई फीस जमा कर चुके छात्रों को 15 दिन के भीतर धनराशि लौटाने को कहा था। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश राजीव शर्मा एवं न्यायमूर्ति मनोज कुमार तिवारी की खंडपीठ ने एकलपीठ के आदेश को बरकरार रखते हुए इस संबंध में दाखिल की गई स्पेशल अपील खारिज कर दी।

गौरतलब है कि हिमालया आयुर्वेदिक मेडिकल काॅलेज एंड हाॅस्पिटल एवं अन्य ने हाईकोर्ट में विशेष अपील दायर कर अदालत में एकल पीठ के आदेश को चुनौती दी थी। शासन ने 14 अक्टूबर 2015 को आयुर्वेदिक काॅलेजों में फीस बढ़ोतरी का आदेश जारी किया था। 

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में यात्रियों और पर्यटकों को मिलेगी बेहतर सुविधा, रामनगर में बनेगा पहला बस पोर्ट


यहां बता दें कि शासनादेश के बाद निर्धारित 80 हजार रुपये का शुल्क बढ़कर सवा 2 लाख रुपये हो गया। इस शासनादेश को हिमालया आयुर्वेदिक मेडिकल काॅलेज, डोईवाला (देहरादून) के ललित तिवारी ने  हाईकोर्ट में याचिका दायर कर चुनौती दी थी। याचिकाकर्ता ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि एक खास काॅलेज को फायदा पहुंचाने के मकसद से यह फैसला लिया गया है। बता दें कि फीस निर्धारण अधिनियम 2006 के तहत फीस निर्धारण समिति को ही फीस बढ़ोत्तरी का अधिकार है।

गौर करने वाली बात है कि शासनादेश 15 अक्टूबर 2015 को जारी हुआ लेकिन काॅलेजों ने 13 अक्टूबर से ही बढ़ी हुई फीस की वसूली शुरू कर दी। अब हाईकोर्ट के फैसले के बाद करीब 500 छात्रों को इसका सीधा लाभ मिलेगा। 

Todays Beets: