Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

अब दैनिक वेतन भोगी और आउटसोर्स कर्मचारियों को भी मिलेगा पीएफ, ईपीएफओ ने शुरू की नई पहल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब दैनिक वेतन भोगी और आउटसोर्स कर्मचारियों को भी मिलेगा पीएफ, ईपीएफओ ने शुरू की नई पहल

देहरादून। राज्य के सरकारी विभागों में काम करने वाले दैनिक वेतनभोगियों और आउटसोर्स कर्मचारियों को सरकार जल्द ही एक बड़ा तोहफा दे सकती है। सरकार की ओर से इन लोगों को भी पीएफ का लाभ दिया गया जाएगा। ईपीएफओ ने इन कर्मियों को पीएफ के दायरे में लाने के लिए डाटा जुटाने का काम शुरू कर दिया है। श्रम सचिव हरबंस सिंह चुघ की अध्यक्षता में 14 नवंबर को हुई बैठक में दैनिक वेतनभोगियों और आउटसोर्स पर काम करने वालों के पीएफ जमा नहीं कराए जाने का मुद्दा उठाया गया। हरबंस चुघ ने बताया कि 2 साल पहले ही इन लोगों के पीएफ जमा करने के निर्देश दिए गए थे लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई।

गौरतलब है कि अब एक बार फिर से मुख्य सचिव के स्तर पर सभी विभागों को पत्र लिखकर इसके निर्देश दिए जा रहे हैं वहीं ईपीएफओ ने भी अपनी कार्रवाई शुरू कर दी है। ईपीएफओ के द्वारा सभी विभागों में काम करने वाले दैनिक वेतन भोगियों और आउटसोर्स वाले कर्मचारियों का डाटा जुटाया जा रहा है। विभागीय अधिकारियों को भी इन कर्मचारियों की पीएफ जमा करने के निर्देश दिए जा रहे हैं। 

ये भी पढ़ें - निकाय चुनावः मतदान करने पहुंचे भारी संख्या में लोग, कई जगहों पर मतदाताओं के नाम गायब होने से हंगामा 

यहां बता दें कि क्षेत्रीय आयुक्त ईपीएफओ कुमाऊं, आशीष कुमार का कहना है कि नियमानुसार सरकारी विभागों में कार्यरत दैनिक वेतनभोगी, आउटसोर्स कर्मियों का भी पीएफ जमा करना चाहिए, जो नहीं हो रहा है। अब इन कर्मियों को पीएफ के दायरे में लाने के लिए तैयारी की जाएगी।


गौर करने वाली बात है कि राज्य में सभी सरकारी महकमों में वन, बिजली, जलसंस्थान, बीएसएनएल, ईपीएफओ समेत कई विभागों में दैनिक और आउटसोर्स पर काम करने वालों की बड़ी तादाद है। उनको सिर्फ वेतन मिलता है लेकिन पीएफ का लाभ नहीं मिल पाता है।

कर्मियों को होंगे ये फायदे

- 10 साल तक काम करने पर पेंशन का लाभ

- अधिकतम 6.30 लाख रुपये का चिकित्सा बीमा

- पीएफ की निश्चित राशि हर माह बतौर बचत जमा होगी

Todays Beets: